"स्वार्थ की राजनीति कर रहे हैं आजम खान":AIMIM के प्रदेश प्रवक्ता फहरान बोले- अपनी व्यक्तिगत लड़ाई लड़ रहे हैं बाप-बेटे

प्रयागराजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आजम खान और ओवैसी के बीच बन गई दूरी। फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
आजम खान और ओवैसी के बीच बन गई दूरी। फाइल फोटो

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व कैबिनेट मंत्री मो. आजम खान पर हाल में ही दर्ज किए गए दो नए मुकदमों को लेकर उनके विधायक बेटे अब्दुल्लाह आजम के बयान पर सियासत तेज हो गई है। असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM के प्रदेश प्रवक्ता मोहम्मद फरहान ने अब्दुल्ला आजम के बयान पर तंज कसा है।

उन्होंने कहा है कि अब्दुल्ला आजम ने आजम खान पर दर्ज मुकदमे 4 दिन के अंदर वापस न लिए जाने पर समर्थकों के साथ आंदोलन शुरू करने की चेतावनी दी है। फरहान ने मोहम्मद आजम खान और उनके बेटे अब्दुल्ला आजम पर स्वार्थ की राजनीति करने का आरोप लगाया है।

उन्होंने कहा है कि आजम खान और उनके बेटे अब्दुल्ला आजम मुसलमानों के किसी मुद्दे पर नहीं बोलते हैं। बल्कि फिर अपने ऊपर दर्ज मौलाना जौहर अली यूनिवर्सिटी के मुकदमों और बकरी चोरी, भैंस चोरी, किताब चोरी के मुकदमों का हवाला देकर जनता की सहानुभूति बटोर रहे हैं।

"मुसलमानों के मुद्दे पर नहीं बोलते आजम"

मोहम्मद फरहान।
मोहम्मद फरहान।

फरहान ने आरोप लगाया है कि वास्तव में मोहम्मद आजम खान को मुसलमानों की समस्याओं से कोई लेना देना ही नहीं है। यही वजह है कि वे मुसलमानों के असल मुद्दों पर खामोश बने रहते हैं।

उन्होंने कभी ज्ञानवापी के मुद्दे पर कोई बयान नहीं दिया, ना ही नूपुर शर्मा और ना ही गुजरात की बिलकीस बानो के मुद्दे पर ही मोहम्मद आजम खान का कोई बयान आया है। आजम खान का असदुद्दीन ओवैसी साहब ने और मुसलमानों ने जेल में बंद रहते वक्त बहुत साथ दिया है।

लेकिन अब आजम खान को अपनी स्वार्थ की लड़ाई छोड़ कर मुसलमानों के मुद्दों पर लड़ाई लड़नी चाहिए। फरहान ने कहा है कि मुसलमानों की सच्चे रहनुमा सिर्फ और सिर्फ बैरिस्टर असदुद्दीन ओवैसी ही हैं।

खबरें और भी हैं...