• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Bomb In Nautanwa Durg Express: Fake Information Given When The Real Brothers Missed The Train, There Was A Ruckus In The Mind, GRP Arrested Both Of Them

नौतनवा दुर्ग एक्सप्रेस में बम होने की दी फर्जी सूचना:सगे भाइयों की ट्रेन छूट गई तो दिमाग में सूझी खुराफात, GRP ने दोनों को किया गिरफ्तार

प्रयागराज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जीआरपी की गिरफ़त में अख्तर व उसका भाई। - Dainik Bhaskar
जीआरपी की गिरफ़त में अख्तर व उसका भाई।

दो सगे भाइयों की ट्रेन छूट गई तो उनके दिमाग में खुराफात सूझ गई। 112 नंबर पर डायल कर सगे भाइयों ने नौतनवा दुर्ग एक्सप्रेस में बम होने की फर्जी सूचना दे दी। ट्रेन में बम रखने की सूचना से जीआरपी में हड़कंप मच गया। ट्रेन में सर्च अभियान चलाया गया, लेकिन कहीं बम नहीं मिला। डाग स्क्वायड की टीम भी इसमें लगी।

नंबर सर्च हुआ तो मध्यप्रदेश में मिली लोकेशन

बाद में जिस नंबर से फोन किया गया था उसको ट्रेस किया गया तो उसकी लोकेशन मध्यप्रदेश में मिली। फोन करने वाले सगे भाई निकले। उनसे कड़ाई से पूछताछ की गई तो पता चला कि ट्रेन छूट जाने नाराज सगे भाइयों ने फर्जी सूचना दी थी। जीआरपी ने मध्य प्रदेश से अख्तर रजा और उसके भाई अहमद रजा को गिरफ्तार कर लिया है।

प्रतापगढ़ में ट्रेन खड़ी कर चलाया गया था सर्च अभियान

यह घटना 4 दिसंबर 2021 की बताई जा रही है। अख्तर रजा और उसके भाई अहमद रजा ने जीआरपी को फोन करके बताया था कि नौतनवा दुर्ग एक्सप्रेस के कोच नंबर S5,S8 व S10 में बम रखा है। ट्रेन में बम होने की सूचना कंट्रोल रूम को गई तो हड़कंप मच गया। सिविल लाइंस पुलिस ने इसकी जानकारी जीआरपी को दी। जब तक ट्रेन की लोकेशन सर्च हो पाती वह प्रतापगढ़ पहुंच चुकी थी। इसके बाद प्रतापगढ़ रेलवे स्टेशन पर ट्रेन को रोककर डाग स्क्वायड टीम व बम निरोधक दस्ते ने ट्रेन में सर्च अभियान चलाया। तीनों बोगियों में गहन सर्चिंग की गई। इसके बाद पूरी ट्रेन सर्च अभियान चला। जब कहीं कुछ नहीं मिला तो जीआरपी को अंदाजा लग गया कि यह किसी की मात्र शरारत है।

प्रयागराज में दर्ज हुई थी रिपोर्ट

जिस मोबाइल नंबर से कंट्रोल रूम को सूचना दी गई थी उस नंबर को सर्विलांस पर लगाया गया तो उसकी लोकेशन मध्य प्रदेश के अमलाई गांव में मिली। जीआरपी ने उस लोकेशन को ट्रेस कर जब छापा मारा तो वह नंबर अख्तर रजा का निकला। जीआरपी ने जब अख्तर से कड़ाई से पूछताछ की तो उसने बताया कि उसे अपने भाई के साथ प्रयागराज से दुर्ग नौतनवा एक्सप्रेस में सफर करना था। उसकी ट्रेन छूट गई थी। इसके बाद उसके दिमाग में खुराफात सूझी और 112 नंबर डायल कर ट्रेन में बम होने की सूचना दे दी। अख्तर ने बताया कि उसे इस बात का अंदाजा नहीं था इसका परिणाम क्या होगा। अख्तर ने सोचा कि जब इस ट्रेन में बम होने की सूचना मिलेगी तो ट्रेन को खड़ा कर दिया जाएगा। ट्रेन निरस्त भी हो सकती है, जिससे उनके टिकट का पैसा वापस हो जाएगा। फिलहाल जीआरपी ने दोनों युवकों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

खबरें और भी हैं...