पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

HC से टली डॉ. कफील की याचिका पर सुनवाई:BRD मेडिकल कॉलेज के डॉ. कफील खान की याचिका पर अब 12 जुलाई को अगली सुनवाई, अलीगढ़ में दर्ज FIR को खत्म करने की मांग

प्रयागराजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में CAA-NRC प्रोटेस्ट में भड़काऊ भाषण देने पर दर्ज हुई थी FIR। (इनसेट पर डॉ. कफील) - Dainik Bhaskar
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में CAA-NRC प्रोटेस्ट में भड़काऊ भाषण देने पर दर्ज हुई थी FIR। (इनसेट पर डॉ. कफील)

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर बीआरडी मेडिकल कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. कफील अहमद खान की याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट में बुधवार को सुनवाई टल गई है। दरअसल, डॉ. कफील ने याचिका में उनके खिलाफ अलीगढ़ में दर्ज FIR को पूरी तरह से समाप्त करने की मांग की गई है। डॉ. कफील की ओर से यह याचिका 16 मार्च 2021 को दाखिल की गई थी। इस याचिका पर पहली सुनवाई 23 मार्च को हुई थी, लेकिन कोरोना के चलते मामले की सुनवाई नहीं हो पा रही थी।

CAA-NRC प्रोटेस्ट में भड़काऊ भाषण देने पर दर्ज हुई थी FIR
बता दें, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन (NRC) लेकर हुए विरोध प्रदर्शन में डॉ. कपिल शामिल हुए थे। प्रदर्शन में डॉ. कफील पर भड़काऊ भाषण देने का आरोप था। इस मामले में डॉ. कफील के खिलाफ अलीगढ़ में FIR भी दर्ज कराई गई थी। इसके बाद डीएम अलीगढ़ ने 13 फरवरी 2020 को डॉ. कफील के खिलाफ NSA के तहत भी कार्रवाई की थी। जेल में ही रासुका तामील कराया था। इसके साथ ही डीएम ने दो बार एनएसए की अवधि को बढ़ाया भी था, जिसे डॉक्टर कफील ने याचिका दाखिल कर चुनौती दी थी।

हाईकोर्ट से मिली थी जमानत
हाईकोर्ट ने डॉ. कफील खान के ऊपर लगाए गए NSA को अवैध करार देते हुए, उन्हें जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया था। कोर्ट ने दो बार रासुका की अवधि को बढ़ाए जाने को भी गैरकानूनी करार दिया था।

इंसेफेलाइटिस से बच्चों की मौत मामले में सुर्खियों में आए थे कफील
बता दें, गोरखपुर बीआरडी मेडिकल कॉलेज में इंसेफेलाइटिस से पीड़ित बच्चों की ऑक्सीजन की कमी से मौतों के मामले में असिस्टेंट प्रोफेसर डॉक्टर कफील अहमद खान‌ सुर्खियों में आए थे। इस मामले में भी डॉ. कफील के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था और उन्हें जेल भी जाना पड़ा था।

खबरें और भी हैं...