• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Complete Shoulder Transplant Done At SRN Hospital, Successful Operation Of 32 year old Woman Under The Leadership Of Dr. Sachin Yadav In Motilal Nehru Medical College, Prayagraj

एसआरएन अस्पताल में पहली बार हुआ कंधे का पूर्ण प्रत्यारोपण:प्रयागराज के मोतीलाल नेहरू मेडिकल कालेज में डा. सचिन यादव के नेतृत्व में 32 वर्षीया महिला का हुआ सफल ऑपरेशन

प्रयागराज7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ओटी में कंधे का पूर्ण प्रत्यारोपण करते डाक्टर - Dainik Bhaskar
ओटी में कंधे का पूर्ण प्रत्यारोपण करते डाक्टर

मोतीलाल नेहरू मेडिकल कालेज के स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल में आर्थोपेडिक डिपार्टमेंट (हड्‌डी रोग विभाग) के डाक्टरों को एक 32 वर्षीय महिला के कंधे का पूर्ण प्रत्यारोपण करने में सफलता मिली है।ऑपरेशन करने वाले डाक्टरों का दावा है कि प्रयागराज में पहली बार किसी मरीज के कंधे का पूर्ण प्रत्यारोपण किया गया है। इसी तरह के ऑपरेशन के लिए मरीज लखनऊ या दिल्ली जाते हैं। आर्थोपेडिक सर्जन डॉ. सचिन यादव के नेतृत्व में डा. रवि प्रकाश सहाय डा. व्यास शुक्ला के अलावा डा. धमेंद्र यादव, डा. कीर्ति चौहान शामिल रहे। महिला मरीज का नाम कमलेश कुमारी है जो कि सुल्तानपुर जनपद की रहने वाली है ।

गठिया की बीमारी से परेशान थी महिला

डा. सचिन यादव बताते हैं कि मरीज कमलेश कुमारी गठिया यानी आर्थराइटिस की समस्या से जूझ रही थी। वह विभिन्न अस्पतालों का चक्कर लगा चुकी थी। उसका हाथ नहीं उठ रहा था और दर्द भी ज्यादा थी। फिर स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल की ओपीडी में दिखाने पहुंची। मरीज की पूरी जांच पड़ताल की गई फिर हम लोगों ने इसका आपरेशन करने का निर्णय लिया। उसे महिला के पूरे कंधे का ही प्रत्यारोपण कर दिया गया

व्यवस्थाएं तो हैं लेकिन नहीं मिलता लाभ

स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल प्रयागराज मंडल का सबसे बड़ा अस्पताल है। यहां प्रयागराज के आसपास के करीब आधा दर्जन से ज्यादा जिलों के मरीज इलाज कराने आते हैं। इस अस्पताल में मरीजों को मिलने वाली ज्यादातर सुविधाएं व पर्याप्त संसाधन तो हैं लेकिन इसका लाभ उन मरीजों काे नहीं मिल पाता जो आर्थिक रूप से कमजोर होते हैं और वाकई में उन्हें इलाज की जरूरत होती है। स्पेशलिस्ट डाक्टर भी मौजूद रहते हैं लेकिन कुछ को छोड़ दिया जाए तो बाकी सरकारी से ज्यादा प्राइवेट अस्पताल में मरीज देखना ज्यादा पसंद करते हैं। यदि मरीज कमलेश कुमारी की तरह अन्य मरीजों को भी इलाज मिल जाए तो उन्हें प्राइवेट अस्पताल न जाना पड़े।

खबरें और भी हैं...