पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Cow Smuggler Will Not Be Able To Take Oath As Block Pramukh From Jail, Short Term Bail Application Sought For Oath Of SP Block Chief Muzaffar From Kaudihar On July 20 Rejected By Special Gangster Court

ब्लॉक प्रमुख बना गो-तस्कर जेल से नहीं ले पाएगा शपथ:प्रयागराज में गैंगस्टर स्पेशल कोर्ट ने खारिज की शार्ट टर्म बेल, 7 वोटों से BJP कैंडिडेट को हराया था

प्रयागराज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इससे पहले चुनाव में मुजफ्फर कोर्ट की परमीशन पर वोट डालने गया था। अब 20 जुलाई को प्रस्तावित शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने के लिए उसने अर्जी डाली थी। - Dainik Bhaskar
इससे पहले चुनाव में मुजफ्फर कोर्ट की परमीशन पर वोट डालने गया था। अब 20 जुलाई को प्रस्तावित शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने के लिए उसने अर्जी डाली थी।

प्रयागराज में अपराध की दुनिया से सियासत में उतरे इंटर स्टेट गोतस्कर मुजफ्फर अली को स्पेशल गैंगस्टर कोर्ट से झटका लगा है। कोर्ट ने 20 जुलाई को ब्लॉक प्रमुख पद के प्रस्तावित शपथ ग्रहण समारोह के लिए मांगी शार्ट टर्म बेल अर्जी खारिज कर दी है। ऐसे में नैनी सेंट्रल जेल में बंद मुजफ्फर शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हो पाएगा। मुजफ्फर अली कौड़िहार ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में सपा का कैंडिडेट था। उसने जेल में रहते हुए चुनाव जीता था।

प्रस्तावकों ने उसका पर्चा भराया था। कोर्ट की परमिशन लेकर वह नैनी जेल से ब्लाक में मतदान करने भी पहुंचा था। पुलिस के मुताबिक, उस पर 5 जिलों (फूलपुर, नवाबगंज, कौशाम्बी, खागा फतेहपुर) में गो-तस्करी जैसे संगीन आरोपों में 15 FIR दर्ज हैं। मुजफ्फर अली ने चुनाव के दो दिन पहले ही एक पुराने मामले में कोर्ट में सरेंडर कर दिया था और पुलिस ने उसे नैनी जेल में बंद कर दिया था।

जेल से शपथ ग्रहण समारोह में आने की मांगी थी इजाजत

सात जुलाई 2021 को ही प्रयागराज की पूरामुफ्ती पुलिस ने 13 लोगों पर गोतस्करी के आरोप में गैंगस्टर के तहत मुकदमा दर्ज किया था। इसमें मुजफ्फर का नाम भी शामिल था। पुलिस मुजफ्फर को गिरफ्तार करती इससे पहले ही मुजफ्फर ने पुलिस की आंखों में धूल झोंकते हुए कोर्ट में सरेंडर कर दिया और नैनी जेल चला गया। उसने जेल से ही शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने के लिए अर्जी डाली थी। नवाबगंज इंस्पेक्टर योगेंद्र प्रसाद ने बताया कि मुजफ्फर ने 2002 में दर्ज एक मामले में अदालत में आत्म समर्पण किया था।

भाजपा के कैंडिडेट को हराया था

मुजफ्फर को टिकट मिलने के बाद से ही प्रयागराज जनपद की कौड़िहार सीट चर्चा का विषय बन गई थी। उसने जेल में रहते हुए भाजपा के कैंडिडेट राकेश कुमार यादव को 7 वोटों से हराया था। कुल पड़े 48 मतों में से मुजफ्फर को 25 वोट हासिल हुए थे।

ब्लॉक-कौड़िहार

कुल मत48
इनवैलिड मत05
कुल पड़े मत43
मुजफ्फर (सपा)25
राकेश कुमार यादव (भाजपा)18
खबरें और भी हैं...