• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Decision To Give Honorary Degree To Gulzar Stuck In Ministry, Allahabad University Convocation On November 8, AU's Academic Council Had Taken The Decision, Approval Not Yet Received

गुलजार की मानद उपाधि मंजूरी में फंसी:इलाहाबाद यूनिवर्सिटी ने लिया था निर्णय, अभी तक नहीं मिली केंद्र सरकार की मंजूरी

प्रयागराजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रसिद्ध गीतकार गुलजार को इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में डी. लिट की मानद उपाधि नहीं मिलेगी। यूनिवर्सिटी की एकेडमिक व एग्जीक्यूटिव काउंसिल ने डी. लिट की मानद उपाधि देने का निर्णय लिया था। इसे मानव संसाधन विकास मंत्रालय व उच्च शिक्षा मंत्रालय ने अभी तक मंजूरी नहीं दी है। उच्च शिक्षा मंत्रालय में यह फाइल अटकी हुई है। 8 नवंबर को यूनिवर्सिटी का दीक्षांत समारोह होना है।

गुलजार ने स्वीकार किया था यूनिवर्सिटी का आमंत्रण
23 सितंबर को गुलजार को दीक्षांत समारोह में आने के लिए आमंत्रण भेजा गया था। इसे गुलजार नाम से प्रसिद्ध सम्पूर्ण सिंह कालरा ने स्वीकार भी कर लिया था, लेकिन यूनिवर्सिटी के प्रस्ताव को शिक्षा मंत्रालय की मंजूरी न मिलने से गुलजार अब प्रयागराज नहीं आएंगे। इस समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उच्च शिक्षा केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान मौजूद रहेंगे।

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी का दीक्षांत समारोह 8 नवंबर को है।
इलाहाबाद यूनिवर्सिटी का दीक्षांत समारोह 8 नवंबर को है।

दो दिन में शिक्षा मंत्रालय की अनुमति मुश्किल
8 नवंबर को होने वाले इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह को अब सिर्फ दो दिन बचे हैं। ऐसे में नहीं लग रहा कि शिक्षा मंत्रालय अब गुलजार को मानद उपाधि देने के निर्णय को मंजूरी दे देगा। अगर मंजूरी मिल भी गई तो भी गुलजार इस समारोह में भाग नहीं ले पाएंगे।

एकेडमिक काउंसिल और कार्यपरिषद की लग चुकी है मुहर
अर्थशास्त्र विभाग के अध्यक्ष प्रो. प्रशांत घोष के इस प्रस्ताव को 4 अगस्त 2021 को एकेडमिक काउंसिल की बैठक में रखा था। कुलपति प्रो. संगीता श्रीवास्तव ने बैठक की अध्यक्षता की थी। बाद में 14 अगस्त 2021 को कार्यपरिषद की बैठक में प्रस्ताव पर मुहर भी लग गई थी। इसके बाद गुलजार को डी. लिट की मानद उपाधि देने के निर्णय को अप्रूवल के लिए उच्च शिक्षा विभाग भेजा गया था।

यूनिवर्सिटी प्रशासन को अप्रूवल का इंतजार
इलाहाबाद यूनिवर्सिटी की जनसंपर्क अधिकारी डॉ. जया कपूर ने बताया कि गुलजार को मानद उपाधि देने के निर्णय की फाइल अभी उच्च शिक्षा विभाग में पेंडिंग है। अभी अप्रूवल नहीं मिला है।

खबरें और भी हैं...