पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खुली सुनवाई पर अड़े अधिवक्ता:इलाहाबाद हाईकोर्ट के बाहर फिजिकल सुनवाई को लेकर अधिवक्ताओं का प्रदर्शन, कहा-आर्थिक समस्याओं से जूझ रहे हैं वकील

प्रयागराज3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फिजिकल हियरिंग को लेकर प्रदर्शन करते वकील। - Dainik Bhaskar
फिजिकल हियरिंग को लेकर प्रदर्शन करते वकील।

इलाहाबाद हाईकोर्ट में फिजिकल फाइलिंग की मांग ने जोर पकड़ लिया है। हाईकोर्ट के बाहर अधिवक्ताओं का सविनय अवज्ञा आंदोलन के तहत चल रहा विरोध-प्रदर्शन तीसरे दिन भी जारी रहा। अधिवक्ताओं ने बुधवार को प्रोटेस्ट मार्च निकाला। यह मार्च हाईकोर्ट के गेट नंबर तीन से लेकर अंबेडकर चौराहे तक निकाला गया। इस दौरान अधिवक्ताओं ने फिजिकल फाइलिंग की मांग को लेकर नारेबाजी भी की।

आर्थिक समस्याओं से जूझ रहा अधिवक्ता समाज

हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के संयुक्त सचिव, प्रशासन अभिषेक शुक्ला ने प्रोटेस्ट मार्च के बाद कहा कि बार-बार मांग करने के बाद भी अभी तक हाईकोर्ट प्रशासन ने खुली अदालत में सुनवाई की मांग को स्वीकार नहीं किया है। इससे आम अधिवक्ताओं को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है। अधिवक्ता वर्ग आर्थिक समस्याओं से जूझ रहा है। पूर्व संयुक्त सचिव प्रशासन संतोष कुमार मिश्रा ने कहा कि अधिवक्ताओं के बैठने के लिए उनके चैंबरों को खोलना चाहिए। अधिवक्ताओं व वादकारियों के हितों को ध्यान में रखते हुए सुचारू रूप से न्याय व्यवस्था को चलाने के लिए यह जरूरी है।

अब वह समय आ गया है जब कोर्ट को खुली अदालत में सुनवाई का निर्णय सुना देना चाहिए। अधिवक्ताओं ने मंगलवार को मानव श्रृंखला बनाकर विरोध-प्रदर्शन किया था। मार्च पास्ट में एडवोकेट रामानुज तिवारी, विनय कुमार तिवारी, वीरेंद्र कुमार मिश्र, जितेंद्र नारायण राय, विनोद कुमार त्रिपाठी, प्रांजल सिंह, उमेश चौधरी आदि शामिल रहे।

खबरें और भी हैं...