• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Designation Of Pharmacy Officer Instead Of Pharmacist, Memorandum Submitted After Reaching Prayagraj's CMO Office, Will Work By Tying Tape From Tomorrow

फार्मासिस्ट के बजाय फार्मेसी अधिकारी किया जाए पदनाम:प्रयागराज के CMO ऑफिस में पहुंचकर सौंपा ज्ञापन, कल से फीता बांधकर करेंगे कार्य

प्रयागराजएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मुख्य चिकित्साधिकारी को ज्ञापन सौंपते फार्मासिस्ट। - Dainik Bhaskar
मुख्य चिकित्साधिकारी को ज्ञापन सौंपते फार्मासिस्ट।

डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन के बैनतरले जनपद के फार्मासिस्टों ने शनिवार काे CMO ऑफिस में धरना प्रदर्शन किया। सीएमओ (मुख्य चिकित्साधिकारी) डॉ. नानक सरन को अपनी 20 सूत्रीय मांगों के समर्थन में ज्ञापन भी सौंपा। एसोसिएशन के जिला अध्यक्ष डॉ. बीएन सिंह ने कहा कि अन्य सरकार उनकी मांगों को अनदेखी कर रही है। कहा कि महानिदेशक द्वारा प्रेषित प्रस्ताव के अनुसार फार्मासिस्ट का पदनाम फार्मेसी अधिकारी किया जाए। अन्य तकनीकी डिप्लोमा धारियों के समान फार्मेसी डिप्लोमा धारक फार्मासिस्टों का ग्रेड वेतन 4600 किया जाए। इसी क्रम में अन्य मांगों के समर्थन में फार्मासिस्टों ने अपनी आवाज बुलंद की।

मंत्री रणाविजय सिंह ने कहा कि पांच दिसंबर से आठ दिसंबर तक फार्मासिस्ट संवर्ग के समस्त अधिकारी व कर्मचारी काला फीता बांधकर अपनी मांगों के प्रति सरकार का ध्यान आकर्षित करेंगे और अपना विराेध कराएंगे। नौ दिसंबर से 26 दिसंबर तक दो घंटे के लिए कार्य बहिष्कार करेंगे। 17 से 19 दिसंबर तक पूर्ण कार्य बहिष्कार, एवं 20 दिसंबर से सभी फार्मासिस्ट पोस्टमार्टम हाउस जैसे कार्य का बहिष्कार करेंगे। इस दौरान वरिष्ठ उपाध्यक्ष डॉ. कल्याण सिंह, उपाध्यक्ष डॉ. रामनरेश वर्मा, मनोज कुमार उमराव, सुधीर सिंह, डॉ. जनक सिंह समेत अन्य रहे।

स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल से मशाल जुलूस निकालते जूनियर डॉक्टर।
स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल से मशाल जुलूस निकालते जूनियर डॉक्टर।

जूनियर डॉक्टरों ने निकाली मशाल जुलूस

एक सप्ताह से आंदोलित स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल के जूनियर डाॅक्टरों ने शनिवार की शाम मशाल जुलूस निकाली। वह स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल से मेडिकल कॉलेज चौराहे तक गए। यह पीजी में काउंसिलिंग कराने की मांग कर रहे हैं। वह अपनी समर्थन में नारेबाजी करते हुए चल रहे थे। इनके आंदोलन की वजह से तमाम मरीजों को इलाज नहीं मिल रहा है।

खबरें और भी हैं...