पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Dr. Ak Bansal Muder Case Updates : Another Accused Abrar Khan Arrested , STF Gave 50 Thousand Prize Money To Crook Mohd. Abrar Khan Arrested From Rambagh

डॉ. एके बंसल हत्याकांड का एक और आरोपी गिरफ्तार:STF ने 50 हजार के इनामिया बदमाश मो. अबरार खान को रामबाग से दबोचा

प्रयागराज2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मो. अबरार खान फरार चल रहा था। उसपर भी 50 हजार रुपये ईनाम घोषित था।  - Dainik Bhaskar
मो. अबरार खान फरार चल रहा था। उसपर भी 50 हजार रुपये ईनाम घोषित था। 

यूपी एसटीएफ की टीम ने प्रयागराज में मंगलवार को बहुचर्चित डॉ. एके बंसल हत्याकांड के एक और आरोपी मो. अबरार खान को रामबाग से गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार अभियुक्त एक शातिर अपराधी है और उसपर पचास हजार रुपये के इनाम भी घोषित है। आबरार डॉ. बंसल की हत्या के बाद से ही फरार चल रहा था। एसटीएफ और पुलिस की कई टीमें इसकी खोजबीन में लगी थीं।

12 जनवरी 2017 को चैंबर में घुसकर गोलियों से भून डाला था

रामबाग स्थित जीवन ज्योति हास्पिटल के मालिक व शहर के नामी गिरामी सर्जन रहे डाॅ. एके बंसल की 12 जनवरी 2017 को उनके ही चैंबर में घुसकर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। लाख कोशिशों के बाद भी पुलिस इस मामले पर से पर्दा नहीं उठा पाई थी। घटना के सवा चार साल बाद अप्रैल 2021 में STF ने मामले का खुलासा किया था। इस मामले में शूटर शोएब को गिरफ्तार किया गया था। जांच और शोएब से मिले इनपुट के आधार पर अन्य आरोपियों के साथ आलोक सिन्हा को नामजद किया गया था। प्रदेश सरकार ने इस मामले में आलोक पर 50 हजार का इनाम भी घोषित किया था। आलोक सिन्हा ने पूछताछ में बताया था कि गाजियाबाद में वह कोचिंग का संचालन करता है। इस दौरान उसका परिचय बड़े-बड़े प्राइवेट मेडिकल कालेजों में हो गई थी। डॉ. एके बंसल ने अपने बेटे अर्पित का डीएम नेफ्रोलजी में एडमीशन दिलाने के नाम पर उसे 55 लाख रुपये दिए थे। आलोक अर्पित का एडमीशन कराने में विफल रहा। इसके बाद डाॅ. बंसल ने रुपये वापसी के लिए तरह-तरह का दबाव बनाना व धमकाना शुरू कर दिया था। जब वह पैसा नहीं लौटा पाया तो सिविल लाइंस थाने में उसके खिलाफ धोखाधड़ी की FIR दर्ज करा दी । इसके बाद आलोक को जेल भेज दिया गया। यहीं से आलोक के मन में डॉ. बंसल को सबक सिखाने की बात घर कर गई।

नैनी जेल में रची गई डॉ. बंसल हत्याकांड की साजिश

आलोक सिन्हा जब नैनी जेल में पहुंचा तो उसकी मुलाकात डॉ. एके बंसल के दुश्मन दिलीप मिश्रा, अशरफ उर्फ अख्तर कटरा, जुल्फिकार उर्फ तोता और गुलाम रसूल से हुई। इसके बाद जेल में ही डॉ. बंसल हत्याकांड की साजिश रची गई। दिलीप मिश्रा ने अख्तर कटरा से बात कर शूटर मुहैया करा दिए। अबरार मुल्ला नाम के बदमाश के माध्यम से तीन शूटर तय किए। इसमें शोएब के अलावा मकसूद और यासिर शामिल थे।

70 लाख रुपये की शूटरों को दी थी सुपारी

शूटरों से काम होने के एवज में 70 लाख रुपये की बड़ी सौदोबाजी हुई। 15 लाख रुपये बतौर एडवांस दिए गए। 50 लाख रुपये हत्या के बाद देने की बात थी। शूटरों को जैसे ही रुपये मिले उन्होंने रेकी कर पहले अस्पताल के भौगोलिक परिस्थित से वाकिफ हाु गए और तय प्लान के मुताबिक डॉ. एके बंसल को उनके ही चैंबर में शूटरों ने भून दिया और आराम से पिछले दरवाजे से निकल गए। एसटीएफ ने बताया कि आलोक ने ही डाॅ. बंसल की हत्या के लिए शूटरों को 70 लाख की सुपारी दी थी। इस हत्याकांड के बाद से मो. अबरार खान फरार चल रहा था। उसपर भी 50 हजार रुपये ईनाम घोषित किया गया था।

खबरें और भी हैं...