एक्स-रे कराइए, कागज पर मिलेगी रिपोर्ट:प्रयागराज के बेली अस्पताल का मामला, मरीजों को नहीं दी जाती है फिल्म

प्रयागराज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कागज पर रिपोर्ट मिलने से बीमारी की पहचान नहीं हो पाती। - Dainik Bhaskar
कागज पर रिपोर्ट मिलने से बीमारी की पहचान नहीं हो पाती।

प्रयागराज के तेज बहादुर सप्रू यानी बेली अस्पताल में डिजिटल एक्स-रे तो हो रहा है, लेकिन कागज पर ही रिपोर्ट मिल रही है। मरीजों का कहना है कि जब फिल्म की मांग करता है ताे बताया जाता है कि अभी फिल्म नहीं है। यदि कोई वीवीआइपी आ गया तो उसे फिल्म उपलब्ध कराया जाता है।

कागज पर रिपोर्ट से बीमारी की पहचान नहीं होती
कागज पर जो रिपोर्ट दी जाती है उसमें साफ नहीं दिखता है। ऐसे में एक्स-रे करने वाले कर्मचारी, मरीज और तीमारदार से मोबाइल मांग कर स्क्रीन से ही फोटो खींचकर दे देते हैं। ओपीडी में जब डॉक्टर मरीज को एक्स-रे कराने की सलाह देते हैं तो यह बताना नहीं भूलते की रिपोर्ट मोबाइल से ले लेना। यह स्थिति सिर्फ बेली अस्पताल की ही नहीं बल्कि मंडल के सबसे बड़े एसआरएन अस्पताल की भी है। एसआरएन में तो एमआरआइ कराने के बाद भी मरीजों को फिल्म नहीं दिया जाता है। डॉक्टर मानते हैं कि कागज पर रिपोर्ट से बीमारी की पहचान नहीं हो पाती है। आशा देवी, सावित्री समेत अन्य मरीजों का कहना है कि फिल्म न मिलने से बेहतर इलाज कैसे मिल पाएगा। सभी मरीजों को फिल्म दिए जाने की व्यवस्था होनी चाहिए।

बोले, चिकित्सा अधीक्षक

इस संबंध में अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. मनोज कुमार अखौरी ने 'दैनिक भास्कर' से बातचीत के दौरान बताया कि एक्सरे कराने वाले मरीजों की संख्या बहुत ज्यादा होती है। ऐसे में जिस मरीज को फिल्म की आवश्यकता होती है उसे फिल्म दिया जाता है।

खबरें और भी हैं...