• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Greeting The Golden Victory Torch At NCR Headquarters, Sportsmen And Members Of Bharat Scouts And Guides Welcomed By Waving The Tricolor In Their Hands

एनसीआर मुख्यालय में स्वर्णिम विजय मशाल का अभिनंदन:खिलाड़ियों और भारत स्काउट्स एंड गाइड्स के सदस्यों ने हाथों में तिरंगा लहराते हुए की आगवानी

प्रयागराज8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
उत्तर मध्य रेलवे मुख्यालय पर स्वर्णिम विजय मशाल का हुआ भव्य स्वागत। - Dainik Bhaskar
उत्तर मध्य रेलवे मुख्यालय पर स्वर्णिम विजय मशाल का हुआ भव्य स्वागत।

1971 के भारत-पाक युद्ध में भारत की ऐतिहासिक विजय के 50 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में प्रधानमंत्री द्वारा विजय दिवस को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक नई दिल्ली से स्वर्णिम विजय मशाल को प्रज्ज्वलित कर रवाना किया गया था। गुरुवार को यह उत्तर मध्य रेलवे मुख्यालय प्रयागराज पहुंची। इस मशाल को सशस्त्र बलों की एक टुकड़ी द्वारा सजाए गए वाहन में यहां लाया गया था।उत्तर मध्य रेलवे मुख्यालय लाया गया था। उत्तर मध्य रेलवे के खिलाड़ियों और भारत स्काउट्स एंड गाइड्स के सदस्यों ने अपने हाथों में तिरंगा लहराते हुए स्वर्णिम विजय मशाल की आगवानी की।

बहादुर सैनिकों को श्रद्धांजलि

मुख्य समारोह का आयोजन उत्तर मध्य रेलवे मुख्यालय प्रांगण में मैदान में स्थापित 100 फीट ऊंचे राष्ट्रीय ध्वज की गोद में सम्पन्न हुआ। मैदान में वाहन से मशाल के उतरते ही उसका सेना के बैगपाइपर द्वारा सलामी स्थल की ओर ले जाया गया। परेड कमांडर योगेश राणा के नेतृत्व में आरपीएफ परेड ने स्वर्णिम विजय मशाल को गार्ड ऑफ ऑनर दिया। स्टेशन कमांडर और डिप्टी जनरल ऑफिसर कमांडिंग पूर्वी यूपी और एमपी सब एरिया ब्रिगेडियर अजय पासबोला द्वारा मशाल को उत्तर मध्य रेलवे के महाप्रबंधक प्रमोद कुमार को सौंपा गया। महाप्रबंधक द्वारा सलामी स्थल पर साहस और पराक्रम की प्रतीक इस मशाल की स्थापना की गई। सलामी स्थल पर महाप्रबंधक के साथ आईजी/आरपीएफ/उत्तर मध्य रेलवे रवींद्र वर्मा उपस्थित थे । रेल सुरक्षा बल गारद ने मशाल को सामान्य सलामी दी और उसके उपरांत राष्ट्रगान हुआ। महाप्रबंधक ने 1971 के भारत-पाक युद्ध में अपना सर्वोच्च बलिदान करने वाले हमारे बहादुर सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की और सेना के पराक्रम के साथ ही युद्ध में भारतीय रेल के योगदान को याद किया। कहा कि भारतीय रेल ने युद्ध के दौरान सुरक्षा बलों और उपकरणों के परिवहन के लिए 2000 से अधिक विशेष ट्रेनें चलाईं और संघर्ष विराम के बाद भी युद्धबंदियों और शरणार्थियों को स्थानांतरित करने के लिए भी 800 विशेष ट्रेनें चलाई गईं।

यूट्यूब पर लाइव प्रसारण

सचिव, स्काउट्स एंड गाइड्स उत्तर मध्य रेलवे कृष्णा तिवारी ने कार्यक्रम की लाइव कमेंट्री की, जबकि कार्यक्रम का संचालन मुख्य जनसंपर्क अधिकारी डॉ. शिवम शर्मा ने किया। समारोह का सीधा प्रसारण यूट्यूब पर उत्तर मध्य रेलवे के विभिन्न स्टेशनों पर लाइव स्ट्रीमिंग के साथ किया गया। वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त मनोज सिंह ने सेना के साथ पूरे कार्यक्रम का समन्वय किया।समारोह में भारतीय सेना के अधिकारी, उत्तर मध्य रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी, डीआरएम और 970 रेलवे प्रादेशिक सेना, झांसी के अधिकारी उपस्थित थे।

दक्षिण भारत यात्रा दर्शन यात्रा ट्रेन निरस्त

प्रयागराज के सूबेदारगंज से 27 नवंबर को पहली बार चलने वाली दक्षिण भारत दर्शन यात्रा ट्रेन निरस्त कर दी गई है। आईआरसीटीसी की ओर से बताया गया है कि लगन के कारण प्रयागराज से महज 160 यात्री मिले हैं। इससे यह निरस्त करनी पड़ी। 12 दिन के इस टूर पैकेज से यात्रियों को रामेश्वरम, मदुरई, तिरुवंतपुरम, तिरुपति बालाजी, कन्याकुमारी, मल्लिकार्जुन आदि स्थानों पर ले जाने की योजना थी।

खबरें और भी हैं...