पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • In Naini Central Jail Of Prayagraj, All 531 Prisoners Beat Corona, 1800 Prisoners Got Vaccinated, So Far More Than 18,000 Tests, प्रयागराज के नैनी सेंट्रल जेल में  सभी 531 कैदियों ने दी कोरोना को मात, 1800 कैदियों को लगा टीका, अब तक 18,000 से अधिक टेस्ट

प्रयागराज की कोरोना मुक्त जेल:नैनी सेंट्रल जेल में 18 हजार से ज्यादा कैदियों के सैंपल लिए, पॉजिटिव मिले सभी 531 कैदियों ने जीती कोरोना से जंग

प्रयागराज14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नैनी सेंट्रल जेल अब कोरोना मुक्त हो चुकी है। यहां कैदियों के लिए वैक्सीनेशन भी शुरू कराया जा रहा है। - Dainik Bhaskar
नैनी सेंट्रल जेल अब कोरोना मुक्त हो चुकी है। यहां कैदियों के लिए वैक्सीनेशन भी शुरू कराया जा रहा है।

सतर्कता और जागरूकता के बल पर प्रयागराज के नैनी सेंट्रल जेल के कैदियों ने कोरोना को मात दे दी है। यहां दोनों लहरों में कुल 531 कैदी कोरोना से संक्रमित हुए थे। खास बात यह है कि इनमें से किसी भी कैदी की डेथ नहीं हुई। 45 साल के ऊपर 1800 कैदियों को अब तक वैक्सीन भी लग चुकी है। जेल प्रशासन ने ट्रैक, टेस्ट और ट्रीट का फार्मूला अपनाया और अब तक 18000 बंदियों के सैंपल लिए। नतीजा सबके सामने है। जेल में इस समय एक भी कैदी कोरोना संक्रमित नहीं है। जेल कोरोना मुक्त है।

सभी कैदियों को लग चुका है टीका
वरिष्ठ जेल अधीक्षक पीएन पांडे ने बताया कि नैनी सेंट्रल जेल में 45 साल से अधिक उम्र के सभी कैदियों को टीका लग चुका है। हमने टीकाकरण का 100 फीसद लक्ष्य हासिल कर लिया है। अब तक इस आयु वर्ग के 1,800 से अधिक कैदियों को टीका लग चुका है। कोरोना संक्रमण से कैदियों को बचाने के लिए अब तक 18,000 से अधिक परीक्षण किए हैं। महामारी की दूसरी लहर में, 121 कैदियों में कोरोना संक्रमण मिला था। सभी अब ठीक हो चुके हैं। इस समय जेल में एक भी कैदी कोरोना पीड़ित नहीं है।

अब 18 से 45 साल के कैदियों को लगेगा टीका
पीएन पांडेय ने बताया कि नैनी सेंट्रल जेल में पहली और दूसरी लहर में कुल 531 कैदी पॉजिटिव पाए गए थे। इनमें से सभी ने कोरोना को मात दे दी है। एक भी कैदी की कोरोना संक्रमण से मौत नहीं हुई। इनका इलाज जेल के अंदर स्थित कोविड केयर सेंटर में किया गया। जेल प्रशासन अब 18 से 45 साल के बीच के कैदियों को टीका लगाने की तैयारी कर रहा है।

नैनी जेल में हैं क्षमता से दोगुने कैदी
नैनी सेंट्रल जेल में इस समय क्षमता से दोगुने कैदी हैं। जेल की क्षमता 2060 कैदियों को रखने की है पर वर्तमान में जेल में 4500 कैदी बंद हैं। क्षमता से अधिक कैदी होने के कारण कोविड से बचाव कार्य में परेशानी आई। यही कारण रहा कि जेलर, डप्टी जेलर समेत लगभग 15 कर्मचारी भी कोरोना संक्रमित पाए गए थे। हालांकि अब सब ठीक हो चुके हैं।

ऐसे किया कोरोना मैनेजमेंट

  • बाहर से लाए गए विचाराधीन कैदियों को पहले जेल परिसर के अंदर स्थित एक अस्थायी जेल में रखा गया।
  • नैनी केंद्रीय जेल ले जाने से पहले एंटीजन टेस्ट से गुजारा गया। यदि टेस्ट नकारात्मक रहा तो उन्हें जेल के अंदर प्रवेश दिया।
  • यदि कोई कैदी पॉजिटिव पाया जाता था तो उसे जेल के अंदर बने कोविड देखभाल केंद्र में रखा गया।
  • नकारात्मक आने पर कैदियों को अलग बैरक में 14 दिनों तक रखा जाता। बाद में जेल के मुख्य परिसर में ले जाया गया।
  • मुख्य गेट के बाहर कोविड हेल्प डेस्क बनाई गई, बाहर ही सैनिटाइजेशन की सुविधा दी गई।
  • प्रवेश से पहले थर्मल स्क्रीनिंग व आक्सीमीटर से आक्सीजन लेवल चेक किया गया।
  • जेल परिसर का सैनिटाइजेशन कराया गया ताकि संक्रमण को रोका जा सके।
  • मास्क का प्रयोग सभी के लिए अनिवार्य किया गया व मुलाकात पर पाबंदी लगाई गई।
  • बंदियों को दिन में दो बार आयुष मंत्रालय द्वारा सुझाए गए काढ़ा का प्रयोग कराया गया।
खबरें और भी हैं...