प्रयागराज में एक जून से अनलॉक:63 कैंटोनमेंट जोन को छोड़कर सभी क्षेत्रों में दिन का कर्फ्यू हटा, रात का कर्फ्यू जारी रहेगा

प्रयागराज6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रयागराज में भी 63 कंटेनमेंट जोन को छोड़कर सभी क्षेत्रों में एक जून से दिन का कर्फ्यू हटा लिया गया है। - Dainik Bhaskar
प्रयागराज में भी 63 कंटेनमेंट जोन को छोड़कर सभी क्षेत्रों में एक जून से दिन का कर्फ्यू हटा लिया गया है।
  • सप्ताह में पांच दिन ही खुलेंगे बाजार, शनिवार-रविवार रहेगी बंदी
  • एक्टिव केसों की संख्या घटकर 554 पहुंची, सीएमओ की रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में भी मंगलवार से लोगों को राहत मिलेगी। 63 कंटेनमेंट जोन को छोड़कर सभी क्षेत्रों में एक जून से दिन का कर्फ्यू हटा लिया गया है। बाजार सुबह सात बजे से सायं सात बजे तक सप्ताह में पांच दिन खुलेंगे। शनिवार और रविवार बंदी रहेगी। रात्रि कर्फ्यू शाम सात बजे से सुबह सात बजे तक जारी रहेगा। कंटेनमेंट जोन में कोई भी व्यापारिक गतिविधियां संचालित नहीं होंगी। दुकानें भी बंद रहेंगी। यह निर्णय जिलाधिकारी ने जनपद में कोविड-19 के कुल एक्टिव केसों की संख्या घटकर 554 पहुंच जाने के बाद लिया है।

कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण ने पूरे प्रयागराज को भी अपनी जद में ले लिया था। इसी संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए देश में लॉकडाउन और कंटेनमेंट जोन बनाए गए थे। संक्रमण के चलते प्रयागराज में भी तकरीबन 1000 कंटेनमेंट जोन थे, जिसमें से 294 शहरी इलाकों में बनाए गए थे बाकी आसपास और ग्रामीण क्षेत्रों में। अब कोविड-19 के संक्रमण का ग्राफ प्रयागराज में कम हो गया है। पिछले एक सप्ताह से एक्टिव केसों की संख्या 50 से भी कम आ रही है।

मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. प्रभाकर राय ने जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी को सौंपी रिपोर्ट में कहा है कि 31 मई को प्रयागराज जनपद में कोराेना संक्रमित मरीजों की संख्या केवल 554 ही रह गई है। इस आधार पर जिलाधिकारी ने जनपद वासियों को कुछ शर्तों के साथ कोरोना कर्फ्यू से निजात दे दी है। यह आदेश एक जून से 30 जून 2021 तक लागू रहेगा। आदेश का उल्लंघन करने पर महामारी एक्ट के तहत कार्रवाई होगी।

शहर में बने थे 294 कंटेनमेंट जोन
प्रयागराज के शहरी इलाकों में कुल 294 कंटेनमेंट जोन बनाए गए थे। इनमें से 231 कंटोनमेंट जोन को समाप्त कर दिया गया है। अब केवल 63 कंटेनमेंट जोन ही बचे हैं। लंबे समय से प्रयागराज के तमाम इलाके को प्रशासन ने बैरिकेडिंग कर आने-जाने पर रोक लगा दी थी। बाकायदा बांस-बल्ली से रास्ता रोक दिया गया था। जगह जगह कंटेनमेंट जोन का बैनर भी लगा था। सभी गतिविधियों पर रोक थी। कोरोना संक्रमण का ग्राफ तेजी से गिरने के बाद इन इलाकों से कंटेनमेंट जोन खत्म कर दिया गया।

ये हैं मुख्य बिंदु

  • कंटोनमेंट जोन को छोड़कर बाजार और दुकानें सुबह सात बजे से सायं सात बजे तक ही खुलेंगी।
  • शनिवार और रविवार को साप्ताहिक बंदी रहेगी। सप्ताह में पांच दिन ही बाजार खुलेंगे।
  • कोरोना अभियान से जुड़े फ्रंटलाइनर्स के विभागों में 100 फीसद उपस्थिति रहेगी। शेष विभागों में केवल 50 फीसद स्टाफ ही कार्यालय आएंगे।
  • हर औद्योगिक इकाई में कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना करना अनिवार्य है।
  • सब्जी मंडी पूर्व की तरह ही खुली रहेंगी। जिन क्षेत्रों में मंडियां काफी घनी बस्ती में हैं उन्हें शहर के बाहर लगवाया जाएगा।
  • रेलवे स्टेशनों, बस स्टाप, एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग और एंटीजन टेस्ट पूर्व की भांति होता रहेगा। यहां भी कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना करनी होगी।
  • जनपद में स्कूल, काॅलेज, शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे। माध्यमिक व उच्च शिक्षण संस्थाओं में आॅनलाइन पढ़ाई जारी रहेगी।
  • बेसिक, माध्यमिक व उच्च शिक्षण संस्थानों से जुड़े शिक्षकों को प्रशासनिक कार्य के लिए विद्यालय आने-जाने की अनुमित होगी।
  • बैंकों, बीमा कंपनियों, भुगतान प्रणालियों व अन्य वित्तीय सेवा प्रदाता कंपनियों को खोलने की अनुमित होगी।
  • जनपद में रेस्टोरेंट में केवल होम डिलिवरी की सुविधा होगी। हाईवे किनारे ढाबों, रेस्टोरेंट, ठेले-खोमचे वालों को खोलने की अनुमित होगी।
  • कंटेनमेंट जोन को छोड़कर जनपद में धार्मिक स्थलों में एक साथ पांच लोगों से अधिक लोगों को जाने की अनुमित नहीं होगी।
  • इसके अलावा निर्माण कार्य, राजस्व कार्य, बाढ़ तैयारी, पौधरोपण अभियान, गेहूं क्रय केंद्र खुले रहेंगे।
  • किसी भी प्रकार के समारोह में 25 से अधिक लोगों को एकत्र करने की अनुमित नहीं होगी।
खबरें और भी हैं...