• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Ishq's Passion Is Like This, Girl Changed Gender, EXCLUSIVE: A Girl From Prayagraj Got Sex Change, Now She Will Be Recognized As A Boy And Not A Girl

इश्क के जुनून में लड़की ने बदलवाया जेंडर:कहा- अपने शरीर में घुटन हो रही थी, परिवार की मर्जी के खिलाफ कराया ऑपरेशन

प्रयागराज5 महीने पहलेलेखक: मनीष मिश्रा

माधुरी (परिवर्तित नाम) एक लड़की के साथ जिंदगी बिताना चाहती थी। मगर, सामाजिक ताने-बाने को देखते हुए यह मुमकिन नहीं था। लिहाजा, माधुरी ने अपना जेंडर यानी सेक्स चेंज कराया है। अब वह लड़की से लड़का बन चुकी है।

  • खबर में आगे बढ़ने से पहले पोल में हिस्सा ले सकते हैं...

मोतीलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल के डॉक्टरों ने यह ऑपरेशन किया है। माधुरी का सेक्स चेंज का ऑपरेशन 14 जून को एसआरएन अस्पताल की ओटी में हुआ था। फिलहाल वह डॉक्टरों की निगरानी में है। उसे करीब 6 माह तक डॉक्टरों की निगरानी में रहना होगा। मामला प्रयागराज के फाफामऊ का है।

परिवार के खिलाफ जाकर कराया ऑपरेशन
करीब 20 साल की माधुरी ग्रेजुएशन की छात्रा है और एक लड़की से प्रेम करती है। दोनों ने साथ जीने-मरने का वादा किया। माधुरी ने अपने परिवार के लोगों से बताया कि वह एक लड़की से शादी करना चाहती है, तो माता-पिता चौंक गए। इसे पागलपन बताते हुए समझाने का प्रयास किया, लेकिन माधुरी नहीं मानी।

अंत में परिवार की इच्छा के खिलाफ जाकर उसने जेंडर चेंज कराने का फैसला किया और स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल पहुंच गई। सरकारी अस्पताल में सेक्स चेंज कराने के लिए माधुरी सिर्फ सरकारी चार्ज ही देना पड़ा। इसमें करीब 15 से 20 हजार रुपए का खर्च आया है। डॉक्टरों ने बताया कि एक से डेढ़ साल के अंदर वह पूरी तरह से ठीक हो जाएगी और फिर शादी कर सकेगी।

डाक्टर साहब-प्लीज मुझे लड़का बना दीजिए

प्लास्टिक सर्जन डॉ. मोहित जैन ने पहले माधुरी की मनोचिकित्सक से जांच कराई, फिर सर्जरी की प्रक्रिया शुरू की।
प्लास्टिक सर्जन डॉ. मोहित जैन ने पहले माधुरी की मनोचिकित्सक से जांच कराई, फिर सर्जरी की प्रक्रिया शुरू की।

माधुरी ने प्लास्टिक सर्जन डॉ. मोहित जैन से मुलाकात की। डॉ. जैन ने बताया, "जब लड़की उनके पास आई तो हाथ जोड़कर कहा, 'डाक्टर साहब- प्लीज मुझे लड़का बना दीजिए।' इस पर मैं चौंक गया।" उन्होंने माधुरी को काउंसिलिंग के लिए मनोचिकित्सक के पास भेजा।

मनोचिकित्सकों ने काउंसिलिंग की तो पता चला कि माधुरी मानसिक और शारीरिक रूप से पूरी तरह से स्वस्थ है। उसे जेंडर आइडेंटिटी डिसऑर्डर है। यानी वह लड़की बनकर जीने में घुटन महसूस कर रही है। जांच प्रक्रिया पूरी होने के कुछ दिन बाद उसका जेंडर चेंज कराने की तैयारी शुरू हुई।

डॉ. मोहित बताते हैं कि अब उसके चेहरे पर दाढ़ी और मूंछ उगाने के साथ उसकी आवाज भी लड़कों की तरह की जाएगी। इसके लिए उसे हार्मोनल थेरेपी दी जाएगी, ताकि वह पूरी तरह से लड़के की तरह ही दिखे।

दाढ़ी-मूंछ के लिए होगा इलाज

स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग की HOD डॉ. अमृता चौरसिया की देख-रेख में माधुरी का गर्भाशय निकालने की प्रक्रिया पूरी की गई।
स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग की HOD डॉ. अमृता चौरसिया की देख-रेख में माधुरी का गर्भाशय निकालने की प्रक्रिया पूरी की गई।

स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग की अध्यक्ष डॉ. अमृता चौरसिया ने कहा, "इस तरह का ऑपरेशन हमने पहली बार किया है। उसका गर्भाशय निकाल दिया गया है। माधुरी को लड़का बनाने के लिए जरूरी ऑपरेशन किए गए। वह अब लड़के के रूप में आ चुकी है।"

डेढ़ साल में पूरा होता प्रोसेस

डॉ. अमृता चौरसिया ने बताया कि जेंडर चेंज के प्रोसेस में करीब डेढ़ साल का समय लगता है। हार्मोन चेंज करने की दवा ऑपरेशन करने से 3 महीने पहले से दी जाती है। सबसे पहले ऑपरेशन करके ब्रेस्ट निकाले जाते हैं। इसमें करीब तीन घंटे लगते हैं। इसके बाद दूसरा ऑपरेशन कर बच्चेदानी निकाली जाती है। इसमें भी तीन से चार घंटे का समय लगता है।

उन्होंने कहा कि इसके बाद तीसरा ऑपरेशन किया जाता है, जिसमें पुरुष बनाने की अंतिम प्रक्रिया को पूरा किया जाता है। इसमें पांच से छह घंटे का समय लगता है। सर्जरी के बाद लड़का बनने के बाद भी खुद पिता नहीं बन सकता।

खबरें और भी हैं...