• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • UP Deputy CM Keshav Prasad Maurya Degree Case Update: Prayagraj ACJM Court Dismissed Petition Of Keshav Prasad Maurya Degree Without Any Comment, Now Preparing To Challenge In High Court

UP डिप्टी CM केशव की डिग्री केस में याचिका खारिज:प्रयागराज की ACJM कोर्ट ने बिना किसी टिप्पणी के खारिज की याचिका, अब हाईकोर्ट में चुनौती देने की तैयारी

प्रयागराजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य। (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य की कथित फर्जी डिग्री मामले में ACJM कोर्ट प्रयागराज ने शनिवार को याचिका खारिज कर दी। कोर्ट ने बिना किसी टिप्पणी के यह याचिका खारिज कर दी है। याची व आरटीआई एक्टिविस्ट दिवाकर त्रिपाठी ने कहा कि अब इस मामले को लेकर वे इलाहाबाद हाईकोर्ट जाएंगे।

इस मामले में सुनवाई पूरी होने के बाद एक सितंबर 2021 को एसीजेएम कोर्ट ने फैसला रिजर्व कर लिया था। एसएचओ कैंट ने प्रारंभिक जांच रिपोर्ट भी दाखिल कर दी थी। आज इस मामले में बहु-प्रतीक्षित फैसला आना था पर कोर्ट ने याचिका ही खारिज कर दी है। याची दिवाकर त्रिपाठी का कहना है कि अब इस मामले को हाईकोर्ट में ले जाया जाएगा।

एसएचओ कैंट ने जमा की जांच रिपोर्ट

दरअसल, डिप्टी सीएम की कथित फर्जी डिग्री को लेकर दाखिल अर्जी पर एसीजेएम नम्रता सिंह ने प्रारंभिक जांच का आदेश दिया था। उन्होंने दो बिंदुओं पर एसएचओ कैंट से प्रारंभिक जांच कर रिपोर्ट भी मांगी थी। अर्जी में आरोप लगाया गया है कि डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य की डिग्री फर्जी है। इस आधार पर कोर्ट ने उत्तर मध्यमा द्वितीय वर्ष की हिंदी साहित्य सम्मेलन की डिग्री की जांच का आदेश दिया था। इसके साथ ही हाईस्कूल के फर्जी सर्टिफिकेट पर पेट्रोल पंप हासिल करने के मामले में भी जांच का आदेश दिया था।

एसीजेएम कोर्ट ने प्रियंका श्रीवास्तव बनाम स्टेट ऑफ यूपी के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के आधार पर ही प्रारंभिक जांच का आदेश दिया था। 19 मार्च 2015 को सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस दीपक मिश्रा ने इस मामले में फैसला दिया था।

चुनाव के हलफनामे में फर्जी सर्टिफिकेट लगाने का आरोप
डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य पर चुनाव के हलफनामे में फर्जी सर्टिफिकेट लगाने का आरोप है। इसके साथ ही डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य पर फर्जी डिग्री लगाकर 5 अलग-अलग चुनाव लड़ने का भी आरोप है। अर्जी में कहा गया है कि उन्होंने फर्जी डिग्री के आधार पर ही पेट्रोल पंप भी हासिल किया है। आरटीआई एक्टिविस्ट और वरिष्ठ भाजपा नेता दिवाकर त्रिपाठी की ओर से अर्जी दाखिल की गई है।

निर्वाचन रद्द करने और पेट्रोल पंप का आवंटन भी निरस्त करने की मांग

भाजपा नेता दिवाकर त्रिपाठी ने अर्जी दाखिल कर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य पर गंभीर आरोप लगाया है कि उन्होंने फर्जी डिग्री लगाकर 5 अलग-अलग चुनाव लड़े। इसके साथ ही फर्जी डिग्री के आधार पर ही पेट्रोल पंप भी हासिल किया है। अर्जी में इस आधार पर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य का निर्वाचन रद्द करने और पेट्रोल पंप का आवंटन भी निरस्त करने की मांग की गई है।

अर्जी में कहा गया है कि डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने 2007 में शहर पश्चिम विधानसभा क्षेत्र से दो बार विधानसभा चुनाव लड़ा था। इतना ही नहीं इसके बाद 2012 में सिराथू से भी विधानसभा चुनाव लड़ा। फूलपुर लोकसभा से 2014 में चुनाव लड़कर और एमएलसी भी चुने गये हैं। उन्होंने अपने शैक्षिक प्रमाण पत्र में हिंदी साहित्य सम्मेलन द्वारा जारी प्रथमा और द्वितीया की डिग्री लगाई है, जोकि प्रदेश सरकार या किसी बोर्ड से मान्यता प्राप्त नहीं है।

शैक्षिक प्रमाण पत्र में भी दर्ज है अलग-अलग साल
डिप्टी सीएम पर आरोप है कि इसी डिग्री के आधार पर उन्होंने इंडियन आयल कारपोरेशन से पेट्रोल पंप भी हासिल किया है जो कौशांबी में स्थित है। वरिष्ठ भाजपा नेता और आरटीआई एक्टिविस्ट ने आरोप लगाया है कि चुनाव लड़ने के दौरान जो अलग - अलग शैक्षिक प्रमाण पत्र लगाये गये हैं उसमें भी अलग-अलग वर्ष दर्ज है। इनकी कोई मान्यता नहीं है।

दिवाकर त्रिपाठी के मुताबिक उन्होंने स्थानीय थाना, एसएसपी से लेकर यूपी सरकार और केंद्र सरकार के विभिन्न मंत्रालयों में प्रार्थना पत्र देकर कार्रवाई की मांग की थी, लेकिन कोई कार्रवाई न होने पर उन्हें अदालत का दरवाजा खटखटाना पड़ा है।

खबरें और भी हैं...