डंपिंग स्टेशन नहीं है कोर्ट:विधि छात्रों के PIL पर हाईकोर्ट ने कहा- तय तारीखों पर पक्ष रखने आना न हो तो याचिका क्यों दाखिल की

प्रयागराज9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ह्यूमन राइट्स लॉ नेटवर्क की ओर से विभिन्न विश्वविद्यालयों में पढ़ रहे विधि छात्रों द्वारा दाखिल जनहित याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट ने संगठन और जनहित याचिका दाखिल करने वाले विधि छात्रों पर बहुत ही तल्ख टिप्पणी की। कोर्ट ने कहा कि जब याचिका पर सुनवाई के लिए तय तारीखों पर पक्ष रखने आना ही ना हो तो याचिका क्यों दाखिल की गई? क्या कोर्ट को डंपिंग स्टेशन समझ रखा है? जो चाहे सो दाखिल कर फेंक दिया जाए।

जनहित याचिका दायर करने वाले छात्रों को नोटिस जारी करने का आदेश
कोर्ट ने ह्यूमन लॉ नेटवर्क और उन सभी छात्रों के विश्वविद्यालयों को नोटिस जारी करने का आदेश दिया, जो जनहित याचिका दाखिल करने में शामिल हैं। यह आदेश इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस राजेश बिंदल और जस्टिस जेजे मुनीर की खंडपीठ ने ज्योति वर्मा और 10 अन्य की ओर से दाखिल जनहित याचिका पर दिया है।

सड़क किनारे पेड़ों की कटाई और मिड डे मील को लेकर दायर की थी याचिका
विधि छात्रों की ओर से प्रयागराज और उसके आसपास के इलाकों में राष्ट्रीय राजमार्ग के विस्तार के दौरान काटे जा रहे पेड़ों और प्राइमरी स्कूलों में बच्चों को बांटे जा रहे मिड डे मील की गुणवत्ता आदि के संदर्भ में याचिका दाखिल की गई थी। कहा गया था कि जो पेड़ काटे जा रहे हैं, उन्हें रीप्लांट क्यों नहीं कराया जा रहा है। हाईकोर्ट ने इस संदर्भ में पहले भी आदेश पारित किया था। कोर्ट ने राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण से कहा था कि क्यों न कोई ऐसी मशीन हो, जो पेड़ को काटने की बजाय उसे दूसरे स्थान पर प्लांट कर दे। कोर्ट ने मामले में केंद्र सरकार को भी पक्ष बनाया था।

ह्यूमन राइट्स लॉ नेटवर्क का भी कोई भी सदस्य नहीं था मौजूद
इससे पहले हुई सुनवाई में याची की तरफ से कोई उपस्थित नहीं हुआ तो कोर्ट ने नाराजगी जताई थी और याचिका दाखिल करने वालों को नोटिस जारी किया था। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने याचियों के बारे में पूछताछ शुरू की तो कई याची उपस्थित नहीं थे और ह्यूमन राइट्स लॉ नेटवर्क का भी कोई भी सदस्य नहीं था।

कोर्ट ने लॉ नेटवर्क के संचालक चार्ली प्रकाश के बारे में पूछा तो याची की तरफ से उपस्थित अधिवक्ता ने बताया कि कुछ दिक्कतों की वजह से वह कोर्ट के समक्ष नहीं उपस्थित हो सकीं। कोर्ट ने कहा कि छात्रों को लेकर याचिका दाखिल कर देते हो और यहां लाकर उसे डंप कर देते हो। कोर्ट ने कहा कि इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

कोर्ट ने पूछा फंडिंग कहां से हो रही है?
कोर्ट ने ह्यमन लॉ नेटवर्क के बारे में भी जानकारी पूछी। कहा कि संगठन को फंडिंग कहां से हो रही है। कौन कर रहा है। इस पर बताया गया कि कहीं से फंडिंग नहीं होती। संगठन के सदस्य ही आपस में चंदा करके अपना काम करते हैं। कोर्ट ने इस पर नोटिस जारी कर जवाब दाखिल करने को कहा है। इसके साथ ही विभिन्न कॉलेजों, विश्वविद्यालयों को भी नोटिस जारी करने को कहा है, जो याचिका दाखिल करने में शामिल हैं।

खबरें और भी हैं...