मुख्य आरोपी जावेद की कस्टडी रिमांड खत्म:दो दिनों तक अटाला बवाल की साजिश को लेकर की गई पूछताछ के बाद फिर पहुंचा देवरिया जेल

प्रयागराज5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अटाला हिंसा में मुख्य आरोपी की है तस्वीर, पुलिस कस्टडी में चल रही पूछताछ। - Dainik Bhaskar
अटाला हिंसा में मुख्य आरोपी की है तस्वीर, पुलिस कस्टडी में चल रही पूछताछ।

प्रयागराज में अटाला बवाल की साजिश के मुख्य आरोपी जावेद की कस्टडी रिमांड आज शाम खत्म हो गई। पुलिस ने शनिवार सुबह से कस्टडी में लेने के बाद से जावेद से दो दिनों तक पूछताछ की। पुलिस अफसर उन सभी बिंदुओं पर उससे पूछताछ में लगे रहे। जो हिंसा को लेकर साजिश की ओर इशारा कर रही है। आरोपी को पुलिस ने फिर देवरिया जेल पहुंचा दिया।

इन सवाल पर पुलिस कर रही पूछताछ

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, पुलिस अफसरों ने सवाल किया कि उसके पास असलह कहां से आए, उसने घर में तीन तमंचा और कारतूस क्यों रखा था, उसे किसने सप्लाई किया था। सोशल मीडिया पर भड़काऊ बयान क्यो दिया, व्हाट्सएप ग्रुप पर कितने लोगों को मैसेज किया था, कितने बैंक खाते हैं, क्या किसी ने फंडिंग की थी, उसने पर्ची पर भड़काऊ बयान क्यों लिखा था, न्यायालय पर आपत्तिजनक टिप्पणी से संबंधित दस्तावेज के बारे में भी गहनता से पूछताछ की गई। आखिर चैट में ऐसा क्या था, जिसे उसने डिलीट किया। यही नहीं 10 जून को भारत बंद आह्वान के संबंध में शेयर किए गए मैसेज के बारे में भी पूछताछ किया गया।

शर्तों के साथ मिली है कस्टडी रिमांड

कोर्ट ने आरोपी को दो दिन की पुलिस कस्टडी में सौंपने का आदेश शुक्रवार को देते हुए शर्त रखी थी कि इनके साथ किसी भी प्रकार का थर्ड डिग्री की कार्यवाही नहीं की जाएगी। जेल से निकलने के बाद और जेल में वापसी करने के पूर्व दोनों की वक्त इनका मेडिकल परीक्षण जरूर कराया जाए। इसी के तहत शनिवार को पुलिस ने कस्टडी में लेने के बाद मेडिकल परिक्षण कराया और देवरिया जेल से लेकर शनिवार दोपहर प्रयागराज पहुंची थी। आज शाम उसे फिर से बेली अस्पताल में मेडिकल कराने के बाद देवरिया जेल के लिए रवाना कर दिया जाएगा।

मुख्य आरोपी का घर पीडीए ने कर दिया था जमींदोज
मुख्य आरोपी का घर पीडीए ने कर दिया था जमींदोज

10 जून को हुआ था बवाल

भाजपा नेता रहीं नुपूर शर्मा की ओर से एक न्यूज चैनल पर डिबेट के दौरान पैगम्बर साहब पर दिये बयान के बाद मुस्लिमों ने विरोध जताया था। उसी को लेकर प्रयागराज में 10 को जुमे के नमाज के बाद जमकर पत्थरबाजी, आगजनी और बमबाजी की घटना हुई थी। इस दौरान 18 से अधिक पुलिसकर्मी और मीडियाकर्मी घायल हो गए थे। इस दौरान उपद्रवियों ने पुलिस की 6 बाइकों को आग के हवाले कर दिया था वहीं मुस्तफा तिराहे के पास एक पीएसी के वाहन को उपद्रवियों ने आग लगा दिया दिया था। इस मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी के तौर पर जावेद अहमद उर्फ पंप को 11 जून को गिरफ्तार कर दिया था। इसके बाद प्रयागराज विकास प्राधिकरण ने नक्शा अप्रूव नहीं होने का हवाला देते हुए मकान पर बुलडोजर भी चलाकर ध्वस्त कर दिया था। वहीं पुलिस की ओर से अब तक 103 उपद्रवियों को गिरफ्तार किया है। वहीं 5400 अज्ञात उपद्रवियों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

खबरें और भी हैं...