पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हाईकोर्ट परिसर में बनेगी मल्टीलेवल पार्किंग:कैबिनेट ने 640.37 करोड़ रुपये मंजूर किए, एडवोकेट चैंबर्स का भी होगा निर्माण

प्रयागराज3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पार्किंग व एडवोकेट चैंबर के लिए प्रदेश सरकार ने 640.37 करोड रुपए की स्वीकृति प्रदान कर दी है। - Dainik Bhaskar
पार्किंग व एडवोकेट चैंबर के लिए प्रदेश सरकार ने 640.37 करोड रुपए की स्वीकृति प्रदान कर दी है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट परिसर में बहुप्रतीक्षित मल्टी लेवल पार्किंग व एडवोकेट चैंबर्स के निर्माण का रास्ता साफ हो गया है। उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्रिमंडल की बुधवार को हुई बैठक में प्रदेश सरकार ने 640.37 करोड रुपए की स्वीकृति प्रदान कर दी है। मंत्रिमंडल द्वारा इस परियोजना में किसी भी प्रकार का परिवर्तन व संशोधन केवल मुख्यमंत्री के आदेश पर ही हो सकेगा।

लोक निर्माण विभाग कराएगी निर्माण

इलाहाबाद हाईकोर्ट परिसर में मल्टी लेवल पार्किंग व एडवोकेट्स चैंबर्स के निर्माण कार्य की लागत 50 करोड़ रुपए से अधिक होने के कारण लोक निर्माण विभाग को कार्यदाई संस्था के रूप में नामित किया गया है। परियोजना का कार्य ईपीसी मोड पर कराया जाना है।

जान के झाम से मिलेगी निजात

इलाहाबाद हाईकोर्ट में प्रतिदिन हजारों की संख्या में वकील व वादकारी विजिट करते हैं। ऐसे में इलाहाबाद हाईकोर्ट परिसर के चारों तरफ की सड़कों पर ही अधिवक्ता अपनी गाड़ियां खड़ी कर देते हैं। लिहाजा हमेशा इन सड़कों पर जाम की स्थिति बनी रहती है। उधर से गुजरने वाले स्कूली बच्चे व आम नागरिकों को इससे काफी परेशानी होती है। इलाहाबाद हाईकोर्ट परिसर में मल्टी लेवल पार्किंग बन जाने के बाद जाम की समस्या से लोगों को निजात मिलेगी। पार्किंग बनने से वकीलों को भी काफी सहूलियत मिलेगी। इलाहाबाद हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अमरेंद्र सिंह का कहना है कि एडवोकेट चैंबर्स व मल्टीलेवल पार्किंग के निर्माण के लिए सरकार ने जो 640.34 करोड रुपए की स्वीकृति दी है वह स्वागत योग्य है। इससे काफी समस्या दूर हो जाएगी। मल्टीस्टोरी लेवल पार्किंग की सुविधा हो जाने के बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट परिसर के बाहर जो जाम की स्थिति रहती है उससे निजात मिलेगी

इलाहाबाद हाईकोर्ट परिसर में मल्टीलेवल पार्किंग और एडवोकेट चैंबर्स के लिए भूमि की व्यवस्था हो गई है। पार्किंग का निर्माण हाईकोर्ट के पीछे होगा। इसके निर्माण में आटोमेटिक स्लाइडिंग डोर, फाल्स सीलिंग, एकास्टिक क्लाउड, वुडेन क्लेडिंग ऑन सीलिंग जैसे कार्य होंगे।

खबरें और भी हैं...