• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Narendra Giri Sucide Case : CBI Probe...Anand Giri Trapped In A Maze Of Questions, Feeling Uncomfortable At Times... Asked For Water... The Small Mahants Wept Bitterly On The Question Of Blackmailing CDs And

जब फूट-फूटकर रोए आनंद गिरि:CBI के सवालों में उलझकर असहज हुए...कई बार पानी मांगा; महंत की सीडी और ब्लैकमेलिंग से जुड़े सवाल सख्ती से पूछे तो रोने लगे

प्रयागराज21 दिन पहले
आनंद गिरि इस समय 7 दिन की CBI की रिमांड पर है। -फाइल फोटो

CBI ने मंगलवार को प्रयागराज में महंत नरेंद्र गिरि सुसाइड केस में आरोपियों से पूछताछ की। CBI ने तीनों आरोपियों आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और संदीप तिवारी से पहले पुलिस लाइन के अलग-अलग कमरों में पूछताछ की। फिर तीनों को एक साथ बैठाकर देर रात तक सवाल पूछे।

इस दौरान जांच एजेंसी ने थर्ड डिग्री का प्रयोग नहीं किया, लेकिन फिर भी सीडी और नरेंद्र गिरि को ब्लैकमेल करने के सवाल पर आनंद गिरि कई बार फूट-फूटकर रोया। हर बार यही कहता रहा कि मैंने अपने गुरु को ब्लैकमेल नहीं किया। मेरे पास कोई सीडी नहीं है।

वीडियो और सीडी होने की बात से आनंद गिरि ने किया इनकार
CBI अधिकारियों के मुताबिक, पुलिस लाइन ले जाने के बाद आनंद गिरि को अलग बिठाकर उसे चाय-बिस्किट ऑफर किया गया। उसने कुछ नहीं लिया और चुप रहा। इसके बाद अफसरों की टीम ने आनंद से पूछताछ शुरू की। CBI के अफसरों ने एक ही सवाल को अलग-अलग टाइम पर कई बार पूछा।

इस दौरान आनंद गिरि ने CBI के सवालों का जवाब तो दिया, लेकिन ब्लैकमेलिंग और महिला के साथ वीडियो बनाने वाली बात को नकार दिया। जब CBI ने थोड़ी सख्ती की, तो आनंद की आंखों में आंसू आ गए। उसने पुलिस को बताया कि वह अपना मोबाइल और लैपटॉप पहले ही पुलिस को दे चुका है और उसके पास ऐसा कोई वीडियो और सीडी नहीं है।

आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और संदीप तिवारी को रिमांड पर लेकर CBI मंगलवार को पुलिस लाइन लेकर आई और पूछताछ की।
आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और संदीप तिवारी को रिमांड पर लेकर CBI मंगलवार को पुलिस लाइन लेकर आई और पूछताछ की।

CBI ने पूछा- कैसे बने महंत
CBI ने आनंद से साधु, संत और महंत बनने की कहानी पूछी। आनंद ने अपने साधु बनने से लेकर निरंजनी अखाड़े से जुड़ने और फिर महंत नरेंद्र गिरि के संपर्क में आकर, लेटे हनुमान मंदिर में ‘छोटे महाराज’ बनने की पूरी कहानी बयान की।

इसके बाद मठ में जमीन बेचने से लेकर छोटे बड़े सभी विवादों की एक-एक परत CBI के अफसरों ने खोलनी शुरू की। महंत नरेंद्र गिरि से उसके संपर्क बिगड़ने के पीछे आनंद ने कई लोगों का हाथ बताया। आशीष गिरि के कथित सुसाइड केस में जांच की मांग करने पर दोनों के संबंध में और खटास आई थी।

CBI ने पूछी समझौते के पीछे की कहानी
CBI ने आनंद गिरि से पूछा कि उसके अपने गुरु से रिश्ते कैसे खराब हुए। वो तो उसे बहुत मानते थे? आनंद ने CBI के सवालों का जवाब तो दिया पर बीच-बीच में अटक जा रहा था। CBI ने आनंद के अखाड़े से निष्कासन के बाद उसके द्वारा मीडिया को दिए गए बयानों का भी संज्ञान लिया। इस दौरान आनंद गिरि ने यह भी बताया कि कैसे बाद में कुछ लोगों के प्रयास से लखनऊ में दोनों में लिखित समझौता हुआ, लेकिन गुरु जी ने उसे दोबारा मठ और अखाड़े में प्रवेश नहीं दिलवाया।

आद्या प्रसाद तिवारी, संदीप तिवारी व आनंद गिरि।
आद्या प्रसाद तिवारी, संदीप तिवारी व आनंद गिरि।

CBI के 12 प्रमुख सवाल

  1. नरेंद्र गिरि को आपने मरवाया है?
  2. उनसे आपका क्या विवाद था?
  3. क्या आपने नरेंद्र गिरि का कोई वीडियो बनाया है?
  4. क्या वीडियो तैयार करने में और भी लोगों ने मदद की है?
  5. क्या उन्होंने किसी करीबी से नरेंद्र गिरि को वीडियो के बारे में फोन कराया था?
  6. महंत द्वारा नोट लुटाते का जो वीडियो जारी किया था, उसे किसने उन्हें दिया था?
  7. मठ में कैसे और किसके माध्यम से आए, कैसे इतने कम समय में इतना बढ़ गए?
  8. मठ में जमीन को लेकर क्या विवाद था? क्या उनके नाम कोई पेट्रोल पंप है, क्या वह मठ की जमीन पर खोलना था?
  9. जब उन्हें अखाड़े-मठ से निकाला गया तो उनकी बयानबाजी के पीछे क्या सच्चाई थी?
  10. लखनऊ में हुए समझौते के पीछे क्या कोई डील हुई थी?
  11. महंत की मौत की खबर उन्हें किसने और कब दी?
  12. समझौता होने के बाद गद्दी से दूर क्यों रहे?
खबरें और भी हैं...