पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Nationwide Demonstration On June 18 Against Violence And Support Of Doctors Trapped In Rape Case In Prayagraj, डॉक्टरों के समर्थन में IMA का बड़ा ऐलान, प्रयागराज में रेप के मामले में फंसे डाक्टरों के समर्थन व हिंसा के खिलाफ 18 जून को देशव्यापी प्रदर्शन

प्रयागराज में IMA का बड़ा ऐलान:डॉक्टरों से मारपीट, अभद्रता के खिलाफ चलेगा देशव्यापाी अभियान, 18 जून को शहरों में होंगे प्रदर्शन

प्रयागराज3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • काला मास्क, काला कपड़ा, काला झंडा, काली पट्‌टी व काले रिबन के साथ करेंगे विरोध-प्रदर्शन

इंडियन मेडिकल एसोसिएगराज (IMA) ने मंगलवार को प्रयागराज में बड़ा ऐलान किया है। IMA ने देशभर में कोरोना वारियर्स पर हुए जानलेवा हमलों, मारपीट व अभद्रता व झूठे आरोपों में फंसाए जाने के खिलाफ देशव्यापी अभियान चलाने की घोषणा की है। एसोसिएशन ने 18 जून को देशव्यापी विरोध-प्रदर्शन करने का ऐलान किया है। यह जानकारी आइएमए के सदस्य व इलाहाबाद मेडिकल एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. एमके मदनानी ने दी।

आज मनाया गया नेशनल डिमांड डे
इस संबंध में प्रेस क्लब में आयोजित प्रेसवार्ता में डॉ. एमके मदनानी ने बताया कि IMA की कार्यकारी समिति ने सभी पहलुओं पर विचार करने , डॉक्टरों की चिंता, नाराजगी को देखते हुए यह निर्णय लिया है। 18 जून को सभी प्रमुख शहरों में हम कोरोना योद्धाओं की रक्षा करो के नारे के साथ चिकित्सा पेशे से जुड़े सभी डॉक्टरों, नर्सों व कर्मचारियों पर हमले रोकने व झूठा फंसाए जाने का विरोध करेंगे। इसी के तहत मंगलवार को देशभर में डॉक्टरों ने अपनी अपनी शाखाओं में नेशनल डिमांड डे के रूप में मनाया।

ये होगा विरोध का तरीका
एएमए के प्रेसिडेंट इलेक्ट डॉ. सुजीत सिंह ने बताया कि हिंसा के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन करने के लिए डॉक्टर काला बिल्ला, काला फीता, काले झंडे, काले मास्क व काले कपड़े पहनेंगे। यह विरोध-प्रदर्शन कार्यस्थल और आइएमए बिल्डिंग के प्रमुख केंद्रों और अस्पतालों में होगा। विरोध प्रदर्शन के बाद देश के प्रधानमंत्री को सामूहिक ज्ञापन भी भेजा जाएगा। जबतक हमारी मांगी नहीं मान ली जातीं यह आंदोलन अब जारी रहेगा।

प्रधानमंत्री-गृहमंत्री से की डॉक्टरों की रक्षा की मांग
डॉ. एमके मदनानी ने बताया कि हमने देश के प्रधानमंत्री व गृहमंत्री से देश के विभिन्न राज्यों में चिकित्सकों व मेडिकल स्टाफ पर हुए हमलों की निष्पक्ष जांच कराने व दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है। स्वरूप रानी नेहरू चिकित्सालय में मिर्जापुर की युवती से दो जून को हुए कथित रेप में डॉक्टरों को झूठा फंसाए जाने की निंदा की है।

उन्होंने कहा कि मेडिकल रिपोर्ट में साफ है कि युवती के साथ रेप नहीं हुआ। डफरिन की लेडी डॉक्टर ने जांच की । सीएमओ की रिपोर्ट में भी रेप की पुष्टि नहीं हुई है उसके बाद भी राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं के दबाव में पुलिस डाक्टरों पर मुकदमे लाद रही है। यह कहां तक उचित है। अब हम भी चुप नहीं रहेंगे।

स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय रेप केस में हो निष्पक्ष जांच- AMA
इलाहाबाद मेडिकल एसोसिएशन (AMA) की वीमेन डॉक्टर्स विंग की अध्यक्ष डॉ. अमिता त्रिपाठी ने कहा कि स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय में मिर्जापुर की युवती से कथित रेप के केस में पुलिस निष्पक्ष जांच करे। उन्होंने युवती के केस और मेडिकल जांच रिपोर्ट को प्रेस के सामने रखते हुए कहा कि ऑपरेशन थिएटर में चार महिला डॉक्टर्स थीं। इसके बाद उस युवती के साथ परिजन हमेशा रहे। ऐसे में राजनीतिक स्वार्थ के लिए डॉक्टरों पर झूठे आरोप लगाकर उनकी मानहानि करना कहां तक उचित है?। डॉ. अमिता ने कहा कि चिकित्सकों पर वैसे भी काम का काफी दबाव रहता है। अगर उनपर झूठे आरोप लगाकर उनका मानसिक उत्पीड़न किया जाएगा तो मरीजों की सेवा कैसे होगी। उन्होंने सरकार से निष्पक्ष जांच की मांग की और आरोप झूठे निकलने पर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की।

डॉक्टरों की तीन मांगे

  1. डॉक्टरों व स्वास्थ्य कर्मियों को तत्काल सुरक्षा मुहैया कराई जाए।
  2. केंद्रीय अस्पताल और हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स सुरक्षा अधिनियम में IPC की धारा और आपराधिक गतिविधि संहिता शामिल की जाए।
  3. प्रत्येक अस्पताल की सुरक्षा मानक बढ़ाने, अस्पतालों को सुरक्षित क्षेत्र घोषित करने व चिकित्सकों के साथ हिंसा के दोषियों के खिलाफ फास्ट ट्रैक अदालत में सुनवाई होने और दोषियों को सख्त से सख्त सजा देने का प्रावधान किया जाए।
खबरें और भी हैं...