नौचंदी एक्सप्रेस पटरी से उतरी:गनीमत थी कि ट्रेन की स्पीड कम थी इसलिए बड़ा नुकसान नहीं हुआ, ढाई घंटे तक अटकी रहीं यात्रियों की सांसें, कई ट्रेनें लेट

लखनऊ/प्रयागराज4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इलेक्ट्रॉनिक और सुरक्षा शाखा की टीम इस पूरे मामले की जांच करेगी कि आखिर कैसे ये ट्रेन पटरी से उतर गई। - Dainik Bhaskar
इलेक्ट्रॉनिक और सुरक्षा शाखा की टीम इस पूरे मामले की जांच करेगी कि आखिर कैसे ये ट्रेन पटरी से उतर गई।

प्रयागराज से मेरठ जाने वाली नौचंदी एक्सप्रेस बुधवार रात 10:10 बजे लखनऊ में केकेसी पुल (श्री जय नारायण मिश्र महाविद्यालय) के पास डिरेल हो गई। ट्रेन के इंजन के दो पहिए पटरी से उतर गए। जानकारी पाकर रेलवे प्रशासन मौके पर पहुंचा। क्रेन के जरिए इंजन के दोनों पहियों को पटरी पर किया गया। इस वजह से ट्रेन करीब ढाई घंटे देरी से करीब एक बजे लखनऊ रेलवे स्टेशन पहुंचकर मेरठ सिटी के लिए रवाना हुई। इस दौरान रूट पर सभी ट्रेनें करीब ढाई घंटे तक प्रभावित रहीं।

गनीमत रही ट्रेन की स्पीड थी कम

गाड़ी संख्या 04511 प्रयागघाट संगम से मेरठ सिटी को जाने वाली नौचंदी एक्सप्रेस बुधवार रात 10.10 बजे दिलकुशा से चारबाग रेलवे स्टेशन की ओर बढ़ रही थी। इस दौरान ट्रेन की स्पीड कम थी। लेकिन केकेसी पुल के पास पहुंचने पर ट्रेन के इंजन के दो पहिए डिरेल हो गए। इससे तेज आवाज हुई और ट्रेन में जोर का झटका लगा। बोगी में बैठे कई यात्री अपनी सीट से नीचे गिर गए। हालांकि, यात्री सुरक्षित बताए जा रहे हैं। कुछ लोगों को हल्की चोटें आई हैं।

तेज झटका और ट्रेन रुक गई
इंजन के दो पहिए पटरी से उतरने के बाद ट्रेन करीब ढाई घंटे तक उसी जगह पर खड़ी रही। इससे यात्रियों को काफी परेशानी झेलनी पड़ी। लखनऊ के लिए प्रयागराज से निकले राम प्रवेश ने बताया कि ट्रेन की स्पीड मुश्किल से 15 से 20 किलोमीटर की रही होगी। इतने में केकेसी पुल के पास तेज आवाज हुई और जोर से झटका लगा और ट्रेन रुक गई।

जोरदार झटके और आवाज से लोग सहम से गए। कई यात्रियों को हल्की चोट भी आई। जब काफी देर से ट्रेन नहीं चली तो लोग उतर कर कारण जानना चाहा तो पता चला कि इंजन के दो पहिए उतर गए हैं। लोग यही कह रहे थे कि गनीमत रही ट्रेन की स्पीड कम थी वरना आज पता नहीं क्या होता।

डिरेलमेंट की सूचना मिलते ही चारबाग रेलवे स्टेशन प्रशासन अलर्ट हो गया और स्टेशन डायरेक्टर सुदीप सिंह के नेतृत्व में रेलवे की टीम मौके पर पहुंच गई। इसके बाद इंजन को वापस पटरी पर लाने का काम किया गया।

नौचंदी एक्सप्रेस के इंजन के दो पहिए पटरी से उतरने के बाद ट्रेन करीब ढाई घंटे तक उसी जगह पर खड़ी रही।
नौचंदी एक्सप्रेस के इंजन के दो पहिए पटरी से उतरने के बाद ट्रेन करीब ढाई घंटे तक उसी जगह पर खड़ी रही।

क्या पटरी में कोई कमी तो नहीं थी, होगी जांच
नौचंदी एक्सप्रेस के इंजन के दो पहिए कैसे उतरे इसकी जांच होगी। रेलवे प्रशासन ने बताया कि जांच में यह देखा जाएगा कि किसकी गलती है। क्या ट्रैक में तो कोई खराबी तो नहीं थी। क्या कोई साजिश तो नहीं है इसके पीछे। क्या पटरी में कोई कमी तो नहीं थी। फिलहाल डिरेलमेंट की वजह की जांच में इन्हीं बिंदुओं को टटोला जाएगा।

डीआरएम बोले-जांच कराई जाएगी
नार्दन रेलवे के डीआरएम संजय त्रिपाठी का कहना है कि ट्रेन के डीरेल होने के मामले की जांच कराई जाएगी। इलेक्ट्रॉनिक और सुरक्षा शाखा की टीम इस पूरे मामले की जांच करेगी आखिर कैसे ये ट्रेन पटरी से उतर गई?

खबरें और भी हैं...