• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Pharmacist Reached Duty Tying Black Lace On The Arm, Pharmacists Across The State Including Prayagraj Are On The Path Of Agitation From Today In Support Of 20 Point Demands

बांह पर काला फीता बांध ड्यूटी पहुंचे फार्मासिस्ट:20 सूत्रीय मांगों के समर्थन में प्रयागराज समेत प्रदेश भर के फार्मासिस्ट आज से आंदोलन की राह पर

प्रयागराज10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रज्जू भईया विश्वविद्यालय के कोविड सैंपल कलेक्शन सेंटर पर काला फीता बांधकर काम करने पहुंचे फार्मासिस्ट। - Dainik Bhaskar
रज्जू भईया विश्वविद्यालय के कोविड सैंपल कलेक्शन सेंटर पर काला फीता बांधकर काम करने पहुंचे फार्मासिस्ट।

प्रयागराज समेत पूरे उत्तर प्रदेश के फार्मासिस्ट रविवार से अपने 20 सूत्रीय मांगों के समर्थन में आंदोलन की राह पर निकल चुके हैं। वह चार दिसंबर को मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय पर पहुंचकर इस संबंध में सीएमओ को ज्ञापन भी सौंप चुके हैं। जनपद में जिलाध्यक्ष डॉ. बीएन सिंह व मंत्री डॉ. रणविजय सिंह के नेतृत्व में अपने अपने स्वास्थ्य केंद्रों पर बांह पर काला फीता बांधकर काम करने पहुंचे थे। आठ दिसंबर तक वह इसी तरह से अपनी ड्यूटी पर रहेंगे।

नौ दिसंबर से दो घंटे का कार्य बहिष्कार

एसोसिएशन के जिला मंत्री रणाविजय सिंह ने कहा कि पांच दिसंबर से आठ दिसंबर तक फार्मासिस्ट संवर्ग के समस्त अधिकारी व कर्मचारी काला फीता बांधकर अपनी मांगों के प्रति सरकार का ध्यान आकर्षित करेंगे और अपना विराेध कराएंगे। नौ दिसंबर से 26 दिसंबर तक दो घंटे के लिए कार्य बहिष्कार करेंगे। 17 से 19 दिसंबर तक पूर्ण कार्य बहिष्कार, एवं 20 दिसंबर से सभी फार्मासिस्ट पोस्टमार्टम हाउस जैसे कार्य का बहिष्कार करेंगे। संगठन से जुड़े पदाधिकारियों ने सरकार फार्मासिस्ट एसोसिएशन की मांगों को गंभीरता से ले और शासनादेश जारी करे।

यह है फार्मासिस्टों की प्रमुख मांगें

-अन्य तकनीकी डिप्लोमा धारियों के समान फार्मेसी डिप्लोमा धारक फार्मासिस्टों का ग्रेड वेतन 4600 किया जाए।

-महानिदेशक द्वारा प्रेषित प्रस्ताव के अनुसार फार्मासिस्ट का पदनाम फार्मेसी अधिकारी किया जाए।

-डिप्लोमा फार्मासिस्टों को बैचलर फार्मेसी रेगुलेशन एक्ट 2014 के अनुसान दो वर्षीय ब्रिज कोर्स राजकीय व्यय पर कराया जाए।

-ड्रग वेयर हाउस में फार्मासिस्ट एवं चीफ फार्मासिस्ट के पदों का सृजन किया जाए।

-शव विच्छेदन भत्ता संशोधित करके 100 रुपये प्रति शव किया जाए आदि।

खबरें और भी हैं...