प्रयागराज के 5 अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट शुरू:बेली के 200 और SRN के 212 बेड पर सप्लाई होगी, प्रति मिनट 1000 लीटर ऑक्सीजन का होगा उत्पादन

प्रयागराज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रयागराज के बेली अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट शुरू कर दिया गया है। - Dainik Bhaskar
प्रयागराज के बेली अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट शुरू कर दिया गया है।

कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए शहर के टीबी सप्रू (बेली) हॉस्पिटल समेत 5 अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट शुरू हो गए हैं। जिन 5 अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट शुरू किया गया है, उसमें एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भी शामिल है।

ऑक्सीजन प्लांट शुरू होने से जनपद के लोगों को काफी फायदा होगा। उन्हें ऑक्सीजन के लिए एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल के चक्कर नहीं लगाने होंगे। ऑक्सीजन की कमी से किसी पेशेंट की मौत भी नहीं होगी।

8 अस्पतालों में स्थापित होना है ऑक्सीजन प्लांट

संभावित तीसरी कोविड लहर को देखते हुए विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि यह बच्चों के लिए प्रतिकूल होगा। स्वास्थ्य विभाग ने संगम नगरी के कुल आठ अस्पतालों में ऑक्सीजन जेनरेटर प्लांट (ओजीपी) स्थापित करने की योजना बनाई थी। स्वरूप रानी नेहरू चिकित्सालय, टीबी सप्रू चिकित्सालय, डफरिन व टीबी अस्पताल और फूलपुर सीएचसी में अब आक्सीजन का उत्पादन शुरू कर दिया गया है।

एसआरएन अस्पताल (द्वितीय विंग), टीबी सप्रू अस्पताल और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (भागवतपुर) सहित तीन अन्य अस्पतालों में ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट अगले सप्ताह तक काम करना शुरू कर देंगे।

SRN में 200 बेड पर हो सकेगी ऑक्सीजन की सप्लाई

उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी और नोडल अधिकारी (ऑक्सीजन जेनरेटर प्लांट) डॉ. राहुल सिंह ने दैनिक भास्कर को बताया कि अब तक पांच अस्पतालों में ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट चालू हो गए हैं। उन्होंने कहा कि शेष तीन अस्पतालों में अगले सप्ताह तक ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट चालू करने का प्रयास किया जा रहा है।

एसआरएन अस्पताल में ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट कुल 200 बिस्तरों के लिए पर्याप्त आक्सीजन की सप्लाई देगा। टीबी सप्रू अस्पताल में 212 बिस्तरों को पर्याप्त मात्रा में आक्सीजन की आपूर्ति हो सकेगी।

डफरिन में 100 बेड पर होगी ऑक्सीजन की सप्लाई

जिला महिला अस्पताल (डफरिन), सीएचसी भगवतपुर, सीएचसी फूलपुर और टीबी अस्पताल में क्रमशः 100, 60 और 10 बेड के लिए ऑक्सीजन की स्प्लाई हो सकेगी। टीबी सप्रू और एसआरएन अस्पतालों में 1000 लीटर प्रति मिनट (एलपीएम) ऑक्सीजन की आपूर्ति होगी, जबकि भागवतपुर और फूलपुर सीएचसी दोनों में यह 300 एलपीएम होगी। इसके अलावा, 415 और 100 एलपीएम टीबी अस्पताल और डफरिन अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति क्षमता होगी।

पीआईसीयू तैयार

तीसरी कोविड लहर की संभावना को देखते हुए, विभाग ने शहरी क्षेत्र में 40 बेड और 100 बेड की सुविधा के साथ दो पीडियाट्रिक्स इंटेंसिव केयर यूनिट (PICU) और ग्रामीण क्षेत्रों में चार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में प्रत्येक में 10 बेड तैयार किए हैं।

इसके अलावा वरिष्ठ बाल रोग विशेषज्ञों द्वारा लगभग 100 चिकित्सा और पैरामेडिकल स्टाफ को भी प्रशिक्षण दिया गया है। टीबी सप्रू (40 बेड) और एमएलएन मेडिकल कॉलेज (100 बेड की सुविधा) है।

इसके अलावा फूलपुर, कोटवा, रामनगर और मांडा सहित चार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में 10-10 बेड की सुविधा वाला पीआईसीयू भी स्थापित किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...