भ्रष्टाचार के आरोप में प्रयागराज के DPO निलंबित:मनोज राव पर कुंभ में 35 लाख रुपये का गबन करने, अधीनस्थों और सीनियर्स के उत्पीड़न जैसे हैं चार्ज

प्रयागराज10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रयागराज के जिला कार्यक्रम अधिकारी मनोज राव को जांच के बाद निलंबित कर दिया गया है। - Dainik Bhaskar
प्रयागराज के जिला कार्यक्रम अधिकारी मनोज राव को जांच के बाद निलंबित कर दिया गया है।

शासन ने प्रयागराज के जिला कार्यक्रम अधिकारी (DPO) को भ्रष्टाचार के आरोप में निलंबित कर दिया है। उनपर कुंभ में 35 लाख रुपये गबन करने, अपने अधीनस्थों और सीनियर्स का उत्पीड़न करने, वाहनों का गलत तरीके से भुगतान करने, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ फेसबुक पर अशोभनीय टिप्पणी करने वाले विवेक को आरोपमुक्त करने जैसे गंभीर आरोप हैं।

पहुंच के बल पर दबवा रखी थी विजिलेंस जांच

बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग, लखनऊ की ओर से गुरुवार को मनोज राव के निलंबन का आदेश आया। मनोज राव के ऊपर प्रयागराज व गोंडा में तैनाती के दौरान कई गंभीर आरोप लगे थे। इन मामलों की विजिलेंस भी जांच कर रही है। मनोज राव की पहुंच शासन तक होने के कारण उसने जांच को ही दबवा रखा था। अब कुंभ में 35 लाख के गबन के आरोप लगने और अधीनस्थों के उत्पीड़न के ताजा आरोपों की जांच के बाद उन्हें कौशांबी के जिलाधिकारी कार्यालय से संबंध कर दिया गया था। इसके बाद अपर निदेशक वित्त दिलीप कुमार अग्रवाल और उप निदेशक कमलेश गुप्ता को जांच अधिकारी नियुक्त किया गया है। मनोज राव के खिलाफ जांच रिपोर्ट आने के बाद शासन ने निलंबित करते हुए आरोपपत्र भी दिया है।

क्या है आरोप पत्र में

  • वित्तीय लाभ लेने के लिए परियोजनाओं से संबद्ध वाहनों का अवैध तरीके से भुगतान करने।
  • अधीनस्थ बाल विकास परियोजना अधिकारियों (सीडीपीओ) स्मृति कुमार सिंह, अजय कुमार, विमलेश कुमार व सोम प्रकाश तिवारी आदि के खिलाफ दुर्भावनापूर्वक कार्रवाई करने।
  • अधीनस्थों को प्रतिकूल प्रविष्टि देने, निलंबित करने और उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने।
  • गोंडा में तैनाती के दौरान सीडीपीओ अरुण कुमार पांडेय की प्रोन्नति रोकने के उद्देश्य से उनके खिलाफ भी दुर्भावना पूर्वक प्रतिकूल प्रविष्टि देने।
  • अरुण पांडेय की गोपनीय वार्षिक रिपोर्ट निदेशालय भेजने।
  • पिछले पांच से प्रयागराज में तैनाती में भी कुंभ में टेंट लगाने आदि के काम में भी 35 लाख से अधिक धनराशि का घोटाला करने।प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री के खिलाफ फेसबुक पर अशोभनीय टिप्पणी करने वाले विवेक को आरोपमुक्त करने का आरोप है।
खबरें और भी हैं...