चुनाव नजदीक फिर भी पर्दे के पीछे राहुल?:प्रयागराज आगमन पर लोगों से बनाए रखे दूरी, राजनीतिक मुद्दों से परहेज

प्रयागराज8 महीने पहले
स्वराज भवन के सामने राहुल गांधी की एक झलक पाने के लिए बेताब दिखे उनके कार्यकर्ता व शहरवासी।

उत्तर प्रदेश में 2022 का विधानसभा चुनाव नजदीक आ चुका है। सभी पार्टियों में चुनाव को लेकर नेताओं की हलचल तेज हाे गई है लेकिन कांग्रेस का बड़ा चेहरा राहुल गांधी पूरी तरह से पर्दे के पीछे हैं। इसका उदाहरण रविवार को प्रयागराज में दिखा। राहुल प्रयागराज आते हैं और यहां करीब पांच घंटे तक रहते हैं लेकिन इस दौरान वह आमजन और मीडिया से पूरी तरह से दूरी बनाकर रहे। इतना ही नहीं कांग्रेस के नेताओं से मिलने पर भी उन्होंने इन्कार किया। कुछ कांग्रेसियों ने बचाव करते हुए यह बयान दिया कि राहुल गांधी राजनीतिक नहीं व्यक्तिगत कारणों से प्रयागराज आए हैं इसलिए वह राजनीति से परहेज कर रहे हैं।

यूपी चुनाव में राहुल दूर, प्रियंका कर रहीं नेतृत्व

कहा जा रहा है कि राहुल गांधी यूपी के इस चुनाव में दूर हैं और पूरी बागडोर प्रियंका के हाथ में है। एक तरफ जहां लोगों से दूरी बना रहे हैं तो वहीं उनकी बहन प्रियंका गांधी जमीन पर उतरकर राजनीति में सक्रिय दिख रही हैं। फाफामऊ के गोहरी हत्याकांड में भी आईं और परिवार के साथ जमीन पर बैठकर उनके दर्द को साझाा इतना ही नहीं इस दौरान वह मीडिया के सामने भी आईं थी। इसके पहले भी जब प्रियंका प्रयागराज दौरे पर आईं तो वह आम लोगों के बीच में रहीं। इससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि यूपी में होने वाले विधानसभा चुनाव का नेतृत्व प्रियंका ही कर रही हैं।

राहुल गांधी से मिलने के लिए स्वराज भवन में भागकर जाते कार्यकर्ताओं को सुरक्षाकर्मियों ने पकड़ा।
राहुल गांधी से मिलने के लिए स्वराज भवन में भागकर जाते कार्यकर्ताओं को सुरक्षाकर्मियों ने पकड़ा।

अपने नेता की एक झलक पाने को बेताब रहे कांग्रेसी

दिन रात पार्टी का झंडा ढोने वाले कांग्रेसी राहुल की एक झलक पाने को बेताब दिखे। राहुल करीब पांच घंटे तक यहां रहे और इस पूरे समय में कई कांग्रेसी स्वराज भवन गेट के बाहर खड़े रहे। राहुल गांधी जिंदाबाद, प्रियंका गांधी जिंदाबाद, राहुल तुम संघर्ष करो-हम तुम्हारे साथ हैं जैसे नारे लगा रहे कार्यकर्ता एक उम्मीद से यहां खड़े थे शायद राहुल जाते समय उन लोगों से मिलें। कुछ कांग्रेसी तो राहुल गांधी के काफिले के साथ स्वराज भवन में प्रवेश करना चाहते थे लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने दौड़ाकर पकड़ लिया।

भीड़ जुटाने के लिए बड़ी संख्या में बुलाए गए कार्यकर्ता

राहुल गांधी ने सिर्फ 14 नेताओं से एयरपोर्ट पर संक्षिप्त मुलाकात की लेकिन भीड़ सैकड़ों कार्यकर्ताओं की बुलाई गई थी। राहुल के आने के पहले पार्टी के तीनों नेताओं को निर्देश मिला कि ज्यादा से ज्यादा भीड़ एयरपोर्ट पर बुलाएं लेकिन वह कार्यकर्ता राहुल के आसपास भी नहीं पहुंच सके और भीड़ बनकर रह गए। एक कांग्रेसी ने कहा कि हम लोग तो दिन रात कांग्रेस को समर्पित हैं हम लोगों से भी राहुल गांधी को मिलना चाहिए था। इससे कांग्रेसियों का ही उत्साह कम हो गया।

खबरें और भी हैं...