जस्टिस के घर पर बमबाजी में 2 और गिरफ्तार:प्रयागराज में राम मंदिर पर फैसला सुनाने वाले सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज अशोक भूषण के पैतृक निवास पर 23 अगस्त को फेंका था बम

प्रयागराज5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीसीटीवी फुटेज में दो बाइकों पर सवार कुछ युवक दिखे। उनकी पहचान कर क्राइम ब्रांच ने 24 तारीख को प्रकाश, नितिन किशोर, अभिषेक व नितिन गौतम को गिरफ्तार किया था। - Dainik Bhaskar
सीसीटीवी फुटेज में दो बाइकों पर सवार कुछ युवक दिखे। उनकी पहचान कर क्राइम ब्रांच ने 24 तारीख को प्रकाश, नितिन किशोर, अभिषेक व नितिन गौतम को गिरफ्तार किया था।

प्रयागराज के हासिमपुर इलाके में स्थित सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज अशोक भूषण के घर के बाहर बमबाजी करने वाले 2 और युवकों को गिरफ्तार कर लिया गया है। यह गिरफ्तारी क्राइम ब्रांच की टीम ने की है।

राम मंदिर पर फैसला सुनाने वाले रिटायर्ड जज के घर बम बाजी के मामले को शासन ने गंभीरता से लिया था। इसके बाद वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को इस मामले की गहन छानबीन के निर्देश दिए गए थे। इस मामले में पुलिस चार लोगों को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।

23 अगस्त को हुई थी बमबाजी

रिटायर्ड जस्टिस अशोक भूषण का हासिमपुर क्षेत्र में पैतृक निवास है। वहां उनके भाई इलाहाबाद हाई कोर्ट के एडवोकेट अनिल भूषण रहते हैं। 23 अगस्त की रात बाइक सवार युवकों ने रिटायर्ड जज के घर पर बमबाजी कर दी थी। इससे अफरा तफरी मच गई थी। पुलिस के अधिकारियों को जब ये बात पता चली कि यह घर रिटायर्ड जस्टिस अशोक भूषण का है जिन्होंने राम मंदिर पर चर्चित फैसला सुनाया था तो वे सकते में आ गए।

पूरा पुलिस महकमा इस मामले की तह तक जाने के लिए हरकत में आ गया। क्राइम ब्रांच के 33 व पुलिस के 12 लोगों को इस मामले का खुलासा करने का निर्देश दिया गया। ताबड़तोड़ छापेमारी होने लगी। सीसीटीवी फुटेज खंगाला जाने लगा।

सीसीटीवी फुटेज में दिखे थे बाइक सवार युवक

सीसीटीवी फुटेज में दो बाइकों पर सवार कुछ युवक दिखे। उनकी पहचान कर क्राइम ब्रांच ने 24 तारीख को प्रकाश, नितिन किशोर, अभिषेक व नितिन गौतम को गिरफ्तार किया था। सीओ कर्नलगंज अजीत सिंह चौहान ने बताया और वंश और तुषार फरार चल रहे थे। शनिवार को दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया है। दोनों से पूछताछ की जा रही है। गिरफ्तार किए गए दोनों युवकों ने भी बताया कि बमबाजी की इस घटना में रिटायर्ड जस्टिस के घर के किसी सदस्य से कोई मतलब नहीं है। उनके घर को निशाना बनाकर बमबाजी नहीं की गई है।

अपहरण का केस वापस लेने को लेकर की बमबाजी

गिरफ्तार किए गए तुषार और वंश ने पुलिस को बताया रिटायर्ड जस्टिस अशोक भूषण के घर के पास चाय की एक दुकान है। चाय की दुकान चलाने वाले परिवार की लड़की से प्रकाश पासी की दोस्ती थी। उसकी छोटी बहन का कुछ दिन पहले रजत और आकाश ने अपहरण कर लिया गया था।

पुलिस ने इसकी रिपोर्ट लिख ली थी। रामबाग का सनी उर्फ मामा लड़की की मां को मुकदमा वापस लेने के लिए धमका रहा था। लड़की की मां मुकदमा वापस लेने को तैयार नहीं थी। इसपर सभी ने मिलकर लड़की की मां को डराने के लिए उसके घर को निशाना बनाकर बमबाजी कर दी थी।

खबरें और भी हैं...