पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भारी पड़ा सोशल मीडिया का चस्का:प्रयागराज में छह युवक पहुंचे जेल; दो साल पहले असलहों के साथ फोटो खिंचाकर सोशल मीडिया पर किया था अपलोड

प्रयागराज20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने आर्म्स एक्ट में चालान कर आरोपियों को जेल भेज दिया है। - Dainik Bhaskar
पुलिस ने आर्म्स एक्ट में चालान कर आरोपियों को जेल भेज दिया है।

दूसरों के असलहों को लेकर दबंग बनने की छवि गढ़ना प्रयागराज के छह युवाओं को भारी पड़ा है। पूरामुफ्ती थाने की पुलिस ने आर्म्स एक्ट के तहत युवकों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। तीन अन्य साथियों की भी तलाश जारी है। इन युवकों की सोशल मीडिया पर असलहों के साथ फोटो सामने आई थी। थाना प्रभारी आशुतोष तिवारी ने दावा किया है कि सोशल मीडिया पर असलहों के साथ वायरल फोटो तकरीबन 2 साल पुरानी है।

दो दिन पहले सामने आई थी फोटो
29 मई को सोशल मीडिया पर एक साथ कई ऐसी फोटो सामने आई, जिनमें 25 से 30 साल के 7-8 लड़के राइफल, पिस्टल, रिवॉल्वर समेत अन्य असलहों के साथ नजर आ रहे थे। खोजबीन की गई तो पता चला कि ये फोटो पूरामुफ्ती थाना क्षेत्र के हटवा गांव के युवकों की है। थाना प्रभारी आशुतोष तिवारी ने लड़कों की शिनाख्त कराई तो पता चला कि इनमें मोहम्मद मोनिश, अब्दुल हन्नान, मोहम्मद सैफ, मोहम्मद हमजा, मोहम्मद शाकिर, मोहम्मद शातिफ और तीन अन्य लोग हैं। सभी के खिलाफ 25 आर्म्स एक्ट के तहत FIR दर्ज की गई। उसके बाद पुलिस ने मोहम्मद मोनिश, अब्दुल हन्नान, मोहम्मद शेख, मोहम्मद हमजा, मोहम्मद शाकिर और मोहम्मद शातिफ को गिरफ्तार कर लिया।

ये फोटो गांव के ही साबिर और बैदुर के असलहे हैं।
ये फोटो गांव के ही साबिर और बैदुर के असलहे हैं।

लाइसेंस निरस्तीकरण की प्रक्रिया जारी
थाना प्रभारी ने बताया कि जिन असलहों का प्रदर्शन किया जा रहा है, वो लाइसेंसी है। लाइसेंस धारक भी आपराधिक प्रवृति के हैं। इसलिए स्थानीय पुलिस ने उनके लाइसेंस निरस्त करने की रिपोर्ट प्रशासन को भेजी है। शिबली नाम के शख्स का लाइसेंस निरस्त हो गया है, बाकी दो लोगों के लाइसेंस निरस्तीकरण की प्रक्रिया में हैं।

शिबली का लाइसेंस निरस्त हो चुका है, जबकि साबिर हुआ बैदूर के लाइसेंसों के निरस्त्रीकरण की रिपोर्ट स्थानीय थाने से जिला प्रशासन को भेजी गई है।
शिबली का लाइसेंस निरस्त हो चुका है, जबकि साबिर हुआ बैदूर के लाइसेंसों के निरस्त्रीकरण की रिपोर्ट स्थानीय थाने से जिला प्रशासन को भेजी गई है।
खबरें और भी हैं...