• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Sri Krishna Janmashtami Updates: Shri Krishna Will Wear A Pearl Dress Worth Rs 1 Lack, Special Tableaux Prepared In ISKCON Temple, Police Line And Naini Central Jail

नंद के घर आनंद भयो, जय कन्हैया लाल की:बांके बिहारी ने लीन्ह्यो अवतार, इस्कान मंदिर, पुलिस लाइन में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

प्रयागराजएक महीने पहले
प्रयागराज के इस्कॉन मंदिर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की विशेष तैयारी की गई है।

भाद्रपद कृष्ण अष्टमी तिथि। घनघोर अंधेरी आंधी रात का समय। रोहिणी नक्षत्र में मथुरा के कारागार में वसुदेव की पत्नी देवकी के गर्भ से भगवान श्रीकृष्ण ने जन्म ले लिया है। भगवान मधुसूदन के जन्म से धरती ही नहीं आकाश भी गुंजायमान हो गया है। भगवान के जन्म के समय भक्त भावविभोर हो गए हैं। घर, मठ-मंदिर घंटे-घड़ियाल से गुंजायमान हो गए हैँ।

पुलिस लाइन में हजारों लोग झांकी देखने आए।
पुलिस लाइन में हजारों लोग झांकी देखने आए।

प्रयागराज में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम है। इस्कान मंदिर, पुलिस लाइन, नैनी सेंट्रल जेल और प्रमुख मठ-मंदिरों में विशेष तैयारी के बीच भगवान श्रीकृष्ण का धरती पर अवतरण हो गया है। भगवान के धरती पर अवतरण के बाद बेसब्री से भगवान के जन्म का इंतजार कर रहे भक्तों में खुशी की लहर दौड़ गई। मठ-मंदिरों में विशेष श्रृंगार के बीच पूजा-अर्चना की गई। इस्कान मंदिर में भगवान का विशेष श्रृंगार किया गया । जैसे ही भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ माहौल कृष्णमय हो ग

सवा लाख रुपये की है बांके बिहारी की पोशाक

कान्हा के जन्म की झांकी इस्कान मंदिर में विशेष रूप से तैयार की गई है। भगवान श्रीकृष्ण के लिए सवा लाख रुपये का की पोशाक तैयार की गई है, जोकि मोतियों की है। यह पोशाक विशेष रूप से आज के ही दिन के लिए कोलकाता से मंगाई गई है।

बलुआघाट स्थित इस्कान मंदिर में विशेष सजावट की गई है।
बलुआघाट स्थित इस्कान मंदिर में विशेष सजावट की गई है।

भगवान के लिए तैयार किया गया 56 भोग

इस्कान मंदिर के सचिव दीनदयाल कृष्णदास ने बताया कि भगवान श्रीकृष्ण के बाल स्व्ररूप का आज विशेष रूप से श्रृंगार किया गया। सबसे पहले पंचकर्म के बाद 108 चांदी के कलशों से भगवान मधुसूदन का अभिषेक किया गया। इसके बाद उनका विशेष रूप से श्रृंगार किया गया। इसके बाद भगवान को 56 भोग अर्पित किया गया। भगवान के जन्म के बाद श्रृद्धालुओं के लिए प्रसाद वितरित किया गया।

राम वाटिका में भगवान श्रीकृष्ण की रासलीला को झांकी के माध्यम से दिखाया गया।
राम वाटिका में भगवान श्रीकृष्ण की रासलीला को झांकी के माध्यम से दिखाया गया।

नैनी सेंट्रल जेल में कैदियों ने बनाई आकर्षक झांकियां

नैनी सेंट्रल जेल के वरिष्ठ जेल अधीक्षक पीएन पांडेय ने बताया कि कैदियों द्वारा भगवान श्रीकृष्ण के जन्म की विशेष झांकी तैयारी की है। इस अवसर पर कैदियों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी पेश किए गए। पूरे कारागार परिसर को लाइटों, झालरों और दीयों से सजाया गया। इस अवसर पर कैदियों ने भगवान श्रीकृष्ण के भजन भी गाए।

नैनी सेंट्रल जेल में विशेष सजावट की गई।
नैनी सेंट्रल जेल में विशेष सजावट की गई।

इंडियन काउंसिल ऑफ एस्ट्रोलॉजिकल साइंसेज (आईकास) की प्रयागराज चैप्टर की अध्यक्ष डॉ. गीता मिश्रा त्रिपाठी ने बताया कि भाद्रपक्ष कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि इस बार 18 अगस्त की रात में 12 बजकर 14 मिनट पर लग चुकी है। यह 19 अगस्त की रात 1 बजकर 06 मिनट तक रहेगी। इसलिए पूर्ण अष्टमी 19 अगस्त को ही होगी। ऋषिकेष पंचांग के अनुसार जन्माष्टमी आज ही है। भाद्रपद कृष्ण अष्टमी तिथि की घनघोर अंधेरी आंधी रात को रोहिणी नक्षत्र में मथुरा के कारागार में वसुदेव की पत्नी देवकी के गर्भ से भगवान श्रीकृष्ण ने जन्म लिया था। यह तिथि उसी शुभ घड़ी की याद दिलाती है और सारे देश में बड़ी धूमधाम से मनाई जाती है।

खबरें और भी हैं...