• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Students Burn Effigy Of IERT Director In Prayagraj, Demand For Dismissal From The Post Of Director With Immediate Effect For Ignoring OBC Reservation In Teacher Recruitment

प्रयागराज में छात्रों ने IERT के निदेशक का फूंका पुतला:शिक्षक भर्ती में ओबीसी आरक्षण की अनदेखी को लेकर निदेशक पद से तत्काल प्रभाव से बर्खास्त करने की उठी मांग

प्रयागराज7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
IERT के निदेशक का प्रतीकात्मक पुतला दहन करते इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्र। - Dainik Bhaskar
IERT के निदेशक का प्रतीकात्मक पुतला दहन करते इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्र।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्रसंघ भवन पर छात्रसंघ बहाली की मांग को लेकर अनशनरत छात्रों ने मंगलवार को IERT इलाहाबाद के निदेशक का प्रतीकात्मक पुतला जलाया। शिक्षक भर्ती में ओबीसी आरक्षण घोटाले की अवमानना को लेकर छात्र आक्रोशित हैं। निदेशक को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त करने की मांग सरकार से की गई। छात्रों ने कहा कि इस मामले की शिकायत राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग से की जाएगी।

मानकों को किया गया दरकिनार

अजय यादव ने कहा कि ओबीसी आरक्षण घोटाला जीबी पंत से होकर आइईआरटी कॉलेज में पहुंचा। जब ज्ञापन में 28 पदों की भर्ती होनी है जिसमें से 14 पद सामान्य वर्गों के लिए निकाला गया, एससी के लिए 12 पद निकाला गया और ओबीसी के लिए सिर्फ 2 पद ही निकाले गए, यह किस रोस्टर के तहत विज्ञापन निकाला गया और यह प्रक्रिया सोच से परे है कि शिक्षक भर्ती में संस्थान ने प्रक्रियात्मक भ्रष्टाचार के चलते और सामाजिक न्याय के खिलाफ़ जाकर काम करते हुए शिक्षक पद के लिए पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित मानको को दरकिनार किया गया। इसी के साथ संस्थान द्वारा समस्त ओबीसी सीटों पर सबसे पहले तो भर्ती प्रक्रिया में उचित मापदंड एवं पारदर्शिता की पूर्ण रूप से कमी है।

यह शिक्षण संस्थान और शिक्षक भर्ती नियमों की तुलना में बहुत कम और हास्यास्पद अधिक है। संस्थान ये बताने में विफल रहा है कि आखिर ऐसे क्या मापदंड थे जो कि शिक्षक भर्ती से ओबीसी आरक्षण से अभ्यर्थियों को दूर रखा गया। यह कोई नई बात नहीं है। ऐसा कई शिक्षण संस्थानों व विश्वविद्यालयों की भर्ती में किया जाता रहा है। दरअसल ऐसा जानबूझकर किया गया ताकि पिछड़े वर्ग से आने वाले अभ्यर्थियों को उच्च शिक्षण संस्थानों में आने से रोका जा सके। यह आरक्षण को जानबूझकर कमज़ोर करने की कोशिश है। इसकी शिकायत राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग और पिछड़ा वर्ग आयोग में की जाएगी। इस मौके पर छात्र नेता नवनीत यादव, मोहम्मद सलमान, राहुल पटेल, अभिषेक यादव, ललित सिंह, आयुष प्रियदर्शी, अभिनव शुक्ला, रितेश गुप्ता, मनजीत पटेल, अभिषेक चौहान, शिवपाल सिंह, आनंद सांसद, सुधीर यादव, शिवबली आदि लोग उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...