• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Suicides Not Stopping In Prayagraj, Allahabad High Court Advocate's Daughter Found Hanging From The Noose Of A Pot In The Fan, The Body Was Brought Down By Breaking The Door.

प्रयागराज में हाईकोर्ट के अधिवक्ता की बेटी ने किया सुसाइड:पंखे में गमछे से लटकर दे दी जान, दरवाजा तोड़कर शव उतारा गया, पिता बोले-दिमागी रूप से बीमार थी

प्रयागराज6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इंस्पेक्टर कैंट नरेंद्र कुमार का कहना है कि अभी तक की जांच में मौत की वजह बीमारी निकलकर सामने आई है। - Dainik Bhaskar
इंस्पेक्टर कैंट नरेंद्र कुमार का कहना है कि अभी तक की जांच में मौत की वजह बीमारी निकलकर सामने आई है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट के एक अधिवक्ता की बेटी ने गमछे के फंदे से फांसी लगाकर जान दे दी। घरवालों का कहना है कि वह दिमागी रूप से बीमार थी। उसका लखनऊ से लेकर दिल्ली तक इलाज कराया गया, लेकिन आराम नहीं हो रहा था।

अंदर से दरवाजा बंद करके लगाई थी फांसी
कैंट थाना क्षेत्र के सरकुलर रोड, नेवादा निवासी विवेक मिश्रा इलाहाबाद हाईकोर्ट में वकालत करते हैं। उनके एक बेटा व एक बेटी हैं। बेटी आयुष्यिता मिश्रा (23) इलाहाबाद विश्वविद्यालय से बीए कर रही थी। इस साल उसका फाइनल ईयर था। 7 अगस्त की रात में वह खाना खाने के बाद अपने कमरे में सोने गई थी। रात में काफी देर तक वह जग भी रही थी। मां स्मृति मिश्रा ने उसे सोने के लिए टोका भी था। सुबह जब वह काफी देर तक नहीं उठी तो मां ही उसे जगाने गई। उसका दरवाजा अंदर से बंद था। काफी पीटने पर भी आवाज नहीं आई तो खिड़की से झांक कर अंदर देखा। अंदर उनकी बेटी आयुष्यिता पंखे में फांसी से लटक रही थी। यह देख मां स्मृति की चीख निकल गई।

शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया
पिता विवेक मिश्रा उसके कमरे में पहुंच गए। कैंट पुलिस को बुलाया गया। जब उसके कमरे का दरवाजा तोड़ा गया। उसे फंदे से नीचे उतारा गया, लेकिन तब तक में काफी देर हो चुकी थी। उसकी मौत हो चुकी थी। पुलिस ने कमरे की छानबीन की लेकिन कोई सुसाइड नोट नहीं मिला। उसके बाद पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम हाउस भेज दिया।

साल भर से मानिसक बीमार थी
पिता विवेक मिश्रा ने बताया कि आयुष्यिता पिछले एक साल से मानसिक रूप से बीमार थी। पहले उसका प्रयागराज में ही इलाज चल रहा था। आराम न होने पर लखनऊ और दिल्ली तक ले गए। फिलहाल उसका लखनऊ में इलाज चल रहा था। एक हफ्ते पहले ही उसे पिता उसे इलाज के लिए लखनऊ लेकर गए थे और आज उसने अपनी जान दे दी। इंस्पेक्टर कैंट नरेंद्र कुमार का कहना है कि अभी तक की जांच में मौत की वजह बीमारी निकलकर सामने आई है।

प्रयागराज में तीन दिन में पांच ने की खुदकुशी

08 अगस्त: कैंट थाना में अधिवक्ता विवेक मिश्रा की बेटी आयुष्यिता मिश्रा ने फांसी लगाई।

07 अगस्त: धूमनगंज थाना क्षेत्र के कालींदीपुरम में 17 साल की किशोरी आरती पुत्री पप्पू निवासी कांशीराम आवास योजना ने एक बहुमंजिली इमरात की दसवीं मंजिल से कूदकर खुदकुशी कर ली।

07 अगस्त: धूमनगंज के ईडब्ल्यूएस कालोनी प्रीतम नगर में शिवम केशरवानी ने सात अगस्त की रात में फांसी लगाकर जान दे दी।

06 अगस्त: करछना के हिंदुपुर गांव निवासी शिवलोचन उर्फ गुनगुन ने ट्रेन के सामने कूदकर जान दी।

06 अगस्त: खुल्दाबाद नारी निकेतन में रहने वाली किशोरी फांसी के फंदे पर लटकी, सात अगस्त को पता चला।

खबरें और भी हैं...