पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Terrorists Linked To Sangam City, ATS Reached Prayagraj, Students Of Prestigious Engineering College Of The City Were In Contact, Accused Student Absconded, Mobile Number Also Switched Off

संगम नगरी से जुड़े आतंकियों के तार:ATS पहुंची प्रयागराज, शहर के प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग कॉलेज के स्टूडेंट्स थे संपर्क में, आरोपी छात्र फरार, मोबाइल नंबर भी बंद

प्रयागराज21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एटीएस ने छात्रों के आतंकी कनेक्शन का पता लगाने के लिए प्रयागराज और कानपुर में छापेमारी की है।- प्रतीकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
एटीएस ने छात्रों के आतंकी कनेक्शन का पता लगाने के लिए प्रयागराज और कानपुर में छापेमारी की है।- प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ से गिरफ्तार अलकायदा की विंग अंसार गजवा-तुल-हिंद के संदिग्ध आतंकी मिनहाज अहमद और मसीरुद्दीन उर्फ मुशीर ने ATS की पूछताछ में कई राज उगले हैं। पूछताछ में आतंकियों का कनेक्शन संगम नगरी के एक प्रतिष्ठत इंजीनियरिंग कॉलेज के स्टूडेंट्स से निकला है। इसके बाद एटीएस ने बुधवार को संगम नगरी के इंजीनियरिंग कॉलेज पहुंचकर पूछताछ की है। अभी तक छात्र फरार बताए जा रहे हैं और उनका मोबाइल नंबर भी बंद जा रहा है। फिलहाल एटीएस के हाथ कुछ महत्वपूर्ण सुराग लगे हैं।

प्रदेश के दो इंजीनियरिंग कॉलेज के आठ छात्र थे आतंकियों के संपर्क में

एटीएस की अभी तक की जांच में पता चला है कि जो आठ इंजीनियरिंग कॉलेज के स्टूडेंट्स आतंकियों के संपर्क में थे उनमें एक प्रयागराज का व एक कॉलेज कानपुर देहात के बारा क्षेत्र का है। आतंकियों से स्लीपिंग सेल का ये इनपुट मिलने के बाद एटीएस की दो टीमें कानपुर व प्रयागराज के लिए रवाना हो गई हैं। बेहद गोपनीय इस कार्रवाई की भनक पुलिस को भी नहीं है। सूत्रों के मुताबिक प्रयागराज के एक इंजीनयरिंग कॉलेज के कुछ स्टूडेंट आतंकियों के साथ संपर्क में थे। एटीएस ने प्रयागराज पहुंचकर छात्रों की तलाश की है। फिलहाल अभी तक उसके हाथ कुछ खास नहीं लगा है। आतंकियों ने मिले मोबाइल नंबर सर्विलांस पर लगाए गए हैं पर नंबर बंद जा रहे हैं। उनकी लोकेशन ट्रेस की जा रही है। फिलहाल एटीएस पूछताछ कर लौट चुकी है।

किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की थी तैयारी

लखनऊ में आतंकियों ने जो राज उगले हैं उसके अनुसार त्यौहारों से पहले किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की तैयारी थी। इसके बाद एटीएस ने आतंकियों के संपर्क में रहे लोगों की तलाश तेज कर दी है। प्रयागराज और कानपुर में संपर्क में रहे आठों इंजीनियरिंग छात्र स्लीपर सेल के सदस्य बताए जा रहे हैं। उनके पकड़े जाने के बाद इसमें कुछ और बड़े खुलासे हो सकते हैं। यही कारण है कि एटीएस ने इनकी तलाश तेज कर दी है। हालांकि अभी छात्र पकड़ में नहीं आए हैं। आतंकियों के संपर्क में रहे आठ में से कितने छात्र प्रयागराज के इंजीनियरिंग कॉलेज और कितने कानपुर देहात के कालेज से हैं इसका पता अभी नहीं चल सका है।

संगम नगरी में भी तैयार हो रहे थे स्लीपर सेल

सूत्रों के अनुसार आतंकी मिनहाज और मसूरउद्दीन की ओर से ट्रेनिंग देकर तैयार किए जा रहे स्लीपर सेल के 8 लड़कों में से कुछ छात्र प्रयागराज के एक प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग कॉलेज के बताए जा रहे हैं। छानबीन में एटीएस को यह पता चला है कि स्लीपर सेल के इन आठ सदस्यों ने बाकायदा बकायदा आतंक की ट्रेनिंग ली है। ये सभी सोशल मीडिया के साथ-साथ आधुनिक संसाधनों में भी महारथ हासिल किए हुए हैं। सूत्रों के अनुसार एटीएस की टीम उस छात्र के पूरे बैकग्राउंड को खंगाल रही है और यह पता लगा रही है कि उसने अपने साथ किस-किस को जोड़ा था। इंजीनियरिंग कॉलेज में एटीएस की दस्तक के बाद अंदर ही अंदर खलबली मची हुई है, लेकिन कोई खुलकर कुछ बोलने को तैयार नहीं है।

खबरें और भी हैं...