• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Two Pregnant Corona Infected, Advice Not To Go Out, Corona Attack On Two Pregnant Women In Prayagraj, Treatment Is Going On In Level Three's ICU Of SRN Hospital

दो गर्भवती कोरोना संक्रमित:प्रयागराज में दोनों महिलाओं का ICU में चल रहा इलाज, लोगों को बाहर न निकलने की सलाह

प्रयागराज21 दिन पहलेलेखक: मनीष मिश्रा
  • कॉपी लिंक
SRN अस्पताल की आइसीयू में चल रहा दो कोरोना संक्रमित गर्भवती महिलाओं का इलाज। - Dainik Bhaskar
SRN अस्पताल की आइसीयू में चल रहा दो कोरोना संक्रमित गर्भवती महिलाओं का इलाज।

प्रयागराज में कोविड-19 के केस बहुत तेजी से फैल रहे हैं। कोविड की इस तीसरी लहर हर उम्र के लोग प्रभावित होते दिख रहे हैं। यहां तक कि गर्भवती महिलाएं भी कोरोना की जद में आ रही हैं। प्रयागराज में ऐसे ही दो केस सामने आए हैं जो गर्भवती थीं और प्रसव के पहले ही कोरोना वायरस ने उनपर अटैक कर दिया।

अब इन दोनों को प्रयागराज के ही लेवल थ्री SRN (स्वरूपरानी नेहरू) अस्पताल की ICU में भर्ती कराया गया है। इन दोनों का इलाज मोतीलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज की स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग की अध्यक्ष डॉ अमृता चौरसिया की देखरेख में चल रहा है। डॉक्टर कहती हैं कि गर्भवती महिलाओं को विशेष ध्यान देने की जरूरत है। वह बाहर जाने से बिल्कुल परहेज करें और पौष्टिक आहार ही लेते रहें। प्रसव तक स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श लेती रहें। किसी भी तरह की परेशानी होती है तो डाक्टर को दिखाने में परहेज न करें।

डॉ. अमृता चौरसिया, विभागाध्यक्ष, स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग (मोतीलाल नेहरू मेडिकल प्रयागराज)
डॉ. अमृता चौरसिया, विभागाध्यक्ष, स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग (मोतीलाल नेहरू मेडिकल प्रयागराज)

पानी की थैली फटने पर समय से पहले करना पड़ा ऑपरेशन

डॉ. अमृता चौरसिया ने बताया कि छोटा बघाड़ा की रहने वाले 32 वर्षीय गर्भवती महिला शहर के एक निजी अस्पताल से रेफर होकर एसआरएन अस्पताल आई थी। जांच करने के बाद पता चला कि पानी की थैली फट गई और केस क्रिटिकल हो गया है तो देर रात उसका ऑपरेशन किया गया और सफाई की गई। इसी तरह दूसरी कोरोना संक्रमित गर्भवती कमला नेहरू अस्पताल से रेफर होकर आई थी। 34 सप्ताह की उसकी प्रेगनेंसी है। उसको फीवर भी आ रहा है। उसका इलाज चल रहा है।

307 एक्टिव केस, आठ मरीजों का ICU में इलाज

प्रयागराज में इस समय कोरोना के कुल 307 एक्टिव केस हैं जिनमें आठ मरीज ऐसे हैं जिनका स्वास्थ्य ज्यादा खराब है। यही कारण है कि एसआरएन अस्पताल की आइसीयू में यह आठ मरीज भर्ती किए गए हैं बाकी 299 मरीज ऐसे हैं जिनमें कोई लक्षण नहीं हैं और वह होम आइसोलेशन में रहकर कोविड प्रोटोकाल का पालन कर रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम इनकी निगरानी कर रही है।

गंभीर हालत में हैं तीन कोरोना मरीज

एसआरएन कोविड अस्पताल के फिजिशियन डॉ. सुजीत कुमार ने बताया कि आइसीयू में जो आठ कोरोना मरीज भर्ती किए गए हैं उनमें तीन मरीजों की हालत गंभीर है। डॉक्टर उन्हें बाई पैप पर रखकर इलाज कर रहे हैं। कुछ मरीजों को फीवर लगातार बना हुआ है तो कुछ मरीजों का आक्सीजन लेवल कम है, जिन्हें आक्सीजन दिया जा रहा है। बता दें कि अभी तक प्रयागराज में ओमिक्रॉन के एक भी मरीज नहीं मिले हैं।

खबरें और भी हैं...