पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परिवार पर टूटा दुखों का पहाड़:प्रयागराज में खेलते-खेलते 4 और 3 साल की चचेरी बहनें तालाब तक पहुंचीं, पैर फिसलने से दोनों डूब गईं

प्रयागराज3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
परिवार वाले जब तक तालाब तक पहुंचे, काफी देर हो चुकी थी। हादसे के बाद रोते बिलखते परिजन। पिता बेसुध हो गया। - Dainik Bhaskar
परिवार वाले जब तक तालाब तक पहुंचे, काफी देर हो चुकी थी। हादसे के बाद रोते बिलखते परिजन। पिता बेसुध हो गया।

प्रयागराज में गंगापार के धरहरा गांव में बुधवार की शाम घर के समीप स्थित एक तालाब में गिरने से दो चचेरी बहनों की मौत हो गई। दोनों बच्चियां खेलते-खेलते तालाब तक पहुंच गई थीं। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

घर वालों को नहीं दिखी तब शुरु हुई खोजबीन
सराय इनायत कोतवाली क्षेत्र के चकिया धरहरा गांव वासी देवकी नंदन की 4 साल की बेटी एंजेल और उनकी भतीजी देविका (3 साल) के साथ खेल रही थी। खेलते- खेलते दोनों बच्चियां घर के पीछे चली गईं। देवकी नन्दन के घर के पीछे तालाब है। जब वह दोनों नहीं दिखी तो घरवालों ने खोजबीन शुरू की। घंटों मशक्कत के बाद घर के पीछे स्थित पोखरे में दोनों बच्चियां उतराती दिखीं। तब तक गांव के लोग इकट्ठा हो चुके थे आनन-फानन में दोनों बच्चों को बाहर निकाला लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी।

परिवार पर टूटा दुखों का पहाड़
देविका की मां कंचन देवी और एंजेल की मां सविता देवी का रो-रोकर बुरा हाल है। वह दोनों बच्चियां पूरे घर के आंगन की खुशियां थी। पूरा परिवार उनको प्यार दुलार करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ता था। अचानक हुए इस हादसे ने पूरे परिवार को मातम में डुबो दिया है। एसपी गंगापार धवल जायसवाल ने बताया कि बच्चियों के शवों पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

खबरें और भी हैं...