• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Up Election News Updates: Keshav Did Not Want Risk By Contesting From Prayagraj, Keshav Prasad Maurya Was Defeated In Two Assembly Elections Of Prayagraj, Now Again Expressed Confidence In His Family Members

प्रयागराज से चुनाव लड़कर रिस्क नहीं चाहते थे केशव:प्रयागराज की दो विधानसभा चुनाव में केशव प्रसाद मौर्य को मिली थी हार, अब फिर अपने घर वालों पर जताया भरोसा

प्रयागराज8 महीने पहले

सूबे के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य 2022 के विधानसभा चुनाव में एक बार फिर से अपने घर वालों पर विश्वास जताया है। अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए उन्होंने अपने गृह जनपद की सीट सिराथू काे चुना है। शनिवार को इसकी घोषणा होने के बाद केशव को लेकर चल रही तमाम अटकलें भी खत्म हो गई। दरअसल, चर्चाएं यह भी चल रही थी कि केशव प्रयागराज के शहर उत्तरी से चुनाव लड़ सकते हैं, लेकिन प्रयागराज से चुनाव लड़कर वह खुद के लिए कोई रिस्क नहीं लेना चाहते थे। कारण, शहर पश्चिमी सीट से दो बार के विधानसभा चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। उन्हें जीत तभी मिली थी जब वह अपने घर यानी सिराथू सीट से चुनाव लड़े और 2017 में वहीं से चुनाव जीतने में सफलता भी मिली।

माफिया अतीक के भाई अशरफ ने हरा दिया था चुनाव

केशव प्रसाद मौर्य आज भले ही यूपी के उपमुख्यमंत्री व पार्टी के कद्दावर नेता हों लेकिन उनका इतिहास देखा जाए तो उन्हें बाहुबली माफिया अतीक अहमद के भाई अशरफ ने चुनाव हरा दिया था। दरअसल, 2004 में शहर पश्चिमी के उपचुनाव में केशव प्रसाद मौर्य चुनाव लड़े थे। उनके सामने अतीक अहमद का भाई अशरफ चुनावी मैदान में था। अशरफ यह चुनाव जीत गया था और केशव को यहां सामना करना पड़ा था। इतना ही नहीं 2007 के विधानसभा चुनाव में केशव प्रसाद इसी क्षेत्र से फिर चुनाव मैदान में आए थे। उन दिनों उनके सामने अशरफ अली के साथ साथ पूजा पाल भी चुनाव लड़ीं। यह चुनाव पूजा पाल जीत गईं और केशव को फिर से हार का सामना करना पड़ा था।

घरवालों की मेहरबानी से 2017 में बने ‘माननीय’

दो चुनाव प्रयागराज से हारने के बाद 2017 के विधानसभा चुनाव में केशव सीधे अपने गृहजनपद कौशांबी की तरफ रूख कर लिए और उस चुनाव में सिराथू सीट से घरवालों की मेहरबानी से माननीय बन गए। केशव मानते हैं कि उनके घर वाले यानी उनके गृहजनपद की जनता उन्हें पूरा सम्मान देगी इसलिए वह अपने सिराथू सीट से चुनाव लड़ने के इच्छुके थे।

खबरें और भी हैं...