पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पुलिस की मौजूदगी में मारपीट-पथराव:प्रयागराज में जमीन के लिए जमकर चले लाठी-डंडे, पीड़िता बोली- पूर्व प्रधान से मिलकर पुलिस ने कराया सुलह, अन्याय हुआ तो जान दे दूंगी

प्रयागराज2 महीने पहले
सीओ करछना राजेश यादव का कहना है कि मारपीट का मामला पता चला था। जिसमें दोनों पक्षों ने आपस में सुलह कर ली थी।

प्रयागराज जिले के ककरम गांव में जमीन के विवाद में दो पक्षों में जमकर लाठी-डंडे चले। इस दौरान लोगों ने एक दूसरे पर पथराव किया गया। जिसमें छह लोग घायल हुए। आरोप है कि बवाल के वक्त पुलिसवाले मौजूद थे। लेकिन कोई एक्शन नहीं लिया गया। घटना के बाद पुलिस ने विपक्षी पूर्व प्रधान के साथ मिलकर दबाव बनाया और समझौता करा दिया। यह पूरा मामला 5 जुलाई का है। लेकिन आज वीडियो सामने आने के बाद पुलिस की किरकरी हो रही है। अब उपद्रवियों को चिन्हित कर उन पर कार्रवाई का दावा किया जा रहा है।

करछना थाना क्षेत्र के ककरम गांव निवासी ऊषा देवी का पड़ोसी कल्लू सोनकर से जमीन को लेकर काफी दिनों से विवाद चल रहा है। पांच जुलाई को दोनों पक्षों में विवादित स्थल को लेकर विवाद हो गया। पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस मौके पर पहुँच गई थी। पुलिस की मौजूदगी में दोनों पक्षों में मारपीट हो गई। जिसमें जमकर लाठी-डंडे और ईंट-पत्थर चले। जिसमें ऊषा के पति कामता, बेटे विकास के अलावा कल्लू सोनकर, नीरज सोनकर आदि को चोटें आई। पुलिस दोनों पक्षो को थाने ले गई और वहां दिन भर बैठाने के बाद सुलह कराकर घर भेज दिया।

पीड़ित महिला ने विपक्षी से मिलीभगत का लगाया आरोप

पीड़िता ऊषा देवी का आरोप है कि कल्लू पूर्व प्रधान है और उसकी थाने पर पकड़ है। इसलिए पुलिस उसकी मदद कर रही है और इनके पक्ष की सुनवाई नहीं हो रही है। पिछले 5 साल से उसका परिवार थाने और तहसील के चक्कर लगा रहा है। ऊषा ने धमकी दी कि अगर उसके साथ न्याय नहीं हुआ तो वह आत्महत्या कर देगी। जिसका जिम्मेदार पुलिस और प्रशासन होगा। इस संबंध में पीड़िता ने डीआईजी प्रयागराज से गुहार लगाई है।

सीओ बोले- दोनों पक्षों ने कर ली थी सुलह
सीओ करछना राजेश यादव का कहना है कि मारपीट का मामला पता चला था। जिसमें दोनों पक्षों ने आपस में सुलह कर ली थी। वीडियो वायरल होने से संबंधित कोई जानकारी नहीं है। पता कराया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...