दो घंटे तक फार्मासिस्टों का कार्य बहिष्कार:प्रयागराज के सरकारी अस्पतालों के बाहर किया प्रदर्शन, 20 सूत्रीय मांगों के समर्थन में कर रहे हैं आंदोलन

प्रयागराज10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फार्मासिस्टों के कार्य बहिष्कार के चलते तेज बहादुर सप्रू अस्पताल में मरीजों  को असुविधा हुई। - Dainik Bhaskar
फार्मासिस्टों के कार्य बहिष्कार के चलते तेज बहादुर सप्रू अस्पताल में मरीजों को असुविधा हुई।

20 सूत्रीय मांगों के समर्थन में जिले भर के फार्मासिस्टों ने शुक्रवार को दो घंटे तक कार्य बहिष्कार किया। सभी फार्मासिस्ट संबंधित अस्पतालाें में समय से तो पहुंच गए थे लेकिन सुबह आठ बजे से 10 बजे तक कार्य से विरत रहे। अस्पतालों में प्रदर्शन किया। बेली अस्पताल समेत अन्य बडे़े अस्पतालों में दो घंटे तक कार्य बहिष्कार के चलते मरीजों को असुविधा भी हुई लेकिन बाद में उन्हें राहत मिली। प्रयागराज समेत पूरे उत्तर प्रदेश के फार्मासिस्ट पांच दिसंबर से अपने 20 सूत्रीय मांगों के समर्थन में आंदोलन की राह पर निकल चुके हैं। जनपद में जिलाध्यक्ष डॉ. बीएन सिंह व मंत्री डॉ. रणविजय सिंह के नेतृत्व में फार्मासिस्ट आंदोलित हैं।

नौ दिसंबर से दो घंटे का कार्य बहिष्कार

एसोसिएशन के जिला मंत्री रणाविजय सिंह ने कहा कि पांच दिसंबर से आठ दिसंबर तक फार्मासिस्ट संवर्ग के समस्त अधिकारी व कर्मचारी काला फीता बांधकर अपनी मांगों के प्रति सरकार का ध्यान आकर्षित करेंगे और अपना विराेध कराएंगे। नौ दिसंबर से 26 दिसंबर तक दो घंटे के लिए कार्य बहिष्कार करेंगे। 17 से 19 दिसंबर तक पूर्ण कार्य बहिष्कार, एवं 20 दिसंबर से सभी फार्मासिस्ट पोस्टमार्टम हाउस जैसे कार्य का बहिष्कार करेंगे। संगठन से जुड़े पदाधिकारियों ने सरकार फार्मासिस्ट एसोसिएशन की मांगों को गंभीरता से ले और शासनादेश जारी करे।

यह है फार्मासिस्टों की प्रमुख मांगें

अन्य तकनीकी डिप्लोमा धारियों के समान फार्मेसी डिप्लोमा धारक फार्मासिस्टों का ग्रेड वेतन 4600 किया जाए।

महानिदेशक द्वारा प्रेषित प्रस्ताव के अनुसार फार्मासिस्ट का पदनाम फार्मेसी अधिकारी किया जाए।

डिप्लोमा फार्मासिस्टों को बैचलर फार्मेसी रेगुलेशन एक्ट 2014 के अनुसान दो वर्षीय ब्रिज कोर्स राजकीय व्यय पर कराया जाए। ड्रग वेयर हाउस में फार्मासिस्ट एवं चीफ फार्मासिस्ट के पदों का सृजन किया जाए। इसी तरह अन्य मांगें भी हैं।

खबरें और भी हैं...