पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रयागराज... तबस्सुम को उम्मीद, प्रियंका करेंगी मदद:एक बेबस बेटी का सपना, मां का अच्छे से हो इलाज; महासचिव प्रियंका गांधी को पत्र लिखकर मांगी मदद

प्रयागराज13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तबस्सुम के इलाज में दो लाख रुपए खर्च होने हैं। - Dainik Bhaskar
तबस्सुम के इलाज में दो लाख रुपए खर्च होने हैं।
  • इलाज में दो लाख होना है खर्च, लाकडाउन में पिता हो गए बेरोजगार, कमाई का कोई और जरिया नहीं, भाई भी है अभी छोटा
  • कमला नेहरू मेमोरियल अस्पताल, प्रयागराज में हो रहा है इलाज, खाने के लाले के बीच मां की बीमारी ने तोड़ दी परिवार की कमर

ये एक बेटी की बेबसी और जिद की कहानी है। बेबसी इस बात की कि उसकी मां कैंसर पीड़ित है और घर में इलाज तो छोड़ो खाने के भी लाले हैं और जिद इस बात की कि वो अपनी मां का अच्छे से अच्छा इलाज कराना चाहती है। कमला नेहरू मेमोरियल अस्पताल के डाक्टरों ने उसकी मां के इलाज में दो लाख रुपये का खर्च बताया है। ऐसे में उसने कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव और उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की प्रभारी प्रियंका गांधी को पत्र लिखकर मदद की गुहार लगाई है।

पिता की लाकडाउन में छूट गई है नौकरी
अख्तर बेगम पत्नी सगीर अहमद बहादुरगंज, प्रयागराज की रहने वाली हैं। उनके पति टेंट हाउस में पर्दे धुलने का काम करते हैं। कोरोना के कारण इस समय सभी टेंट हाउस बंद हैं। लिहाता वो बेरोजगार हो गया हैं। अख्तर बेगम भी कागज की थैलियां बनाकर किसी तरह से अपना गुजर बसर करती हैं। उनको मुंह का कैंसर हो गया है। उनका इलाज कमला नेहरू मेमोरियल अस्पताल, प्रयागराज में चल रहा है। डॉक्टरों ने उनके इलाज में दो से तीन लाख रुपये तक का खर्च बताया है। अब इस परिवार पर बेरोजगारी के बीच बीमारी ने वज्रपात कर दिया है।

प्रियंका जी, आप मानवीय हैं मेरी मां की मदद कीजिए
अख्तर बेगम की बेटी तबस्सुम हमीदिया गर्ल्स इंटर कालेज में कक्षा 12 की छात्रा है। उसका छोटा भाई शबान अभी कक्षा आठ में है। तबस्सुम ने प्रियंका गांधी को पत्र लिखकर कहा है कि आप मानवीय हैं। गरीबों का दुख-दर्द समझती हैं। मेरी मां की मदद कीजिए। उनकी जिंदगी खतरें में है। कमला नेहरू आपके ट्रस्ट का अस्पताल है। मेरे पास पैसे नहीं हैं लिहाजा मेरी मां का इलाज करा दीजिए। प्रियंका गांधी को उसमी मां अख्तर बेगम ने भी अपनी ओर से पत्र लिखा है।

नहीं बना है गरीबी रेखा के नीचे का कार्ड
तबस्सुम ने बताया कि वो काफी गरीब हैं पर उनका अभी तक गरीबी रेखा के नीचे का कार्ड नहीं बना है। कोई इलाज की भी सुविधा नहीं है। इस समय पिता और मां का भी काम बंद है। ऐसे में हमारे पास राशन खरीदने के पैसे नहीं हैं। सरकारी राशन मिलता है पर उससे गुजारा नहीं हो पाता।

तबस्सुम को पूरी उम्मीद, प्रियंका करेंगी मदद
तबस्सुम कहती हैं कि उसे पूरी उम्मीद है कि उसकी मां के इलाज में प्रियंका गांधी जरूर मदद करेंगी। प्रियंका गांधी गरीबों की काफी मदद करती हैं। मुझे निराश नहीं होना पड़ेगा इसका पूरा भरोसा है। आखिर यह उनकी बाबा और दारी का शहर है। हमें उनसे जरूर मदद मिलेगी।

खबरें और भी हैं...