प्रयागराज में लगे योगी-मोदी, हाय-हाय के नारे:सात सूत्रीय मांगों के समर्थन में प्रयागराज जिला मुख्यालय पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने किया घेराव

प्रयागराज8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिला मुख्यालय पर अपनी मांगों के समर्थन में धरना प्रदर्शन कर अपनी आवाज बुलंद करतीं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता। - Dainik Bhaskar
जिला मुख्यालय पर अपनी मांगों के समर्थन में धरना प्रदर्शन कर अपनी आवाज बुलंद करतीं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता।

जब प्रयागराज से 120 मिलोमीटर दूर प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का लोकार्पण कर रहे थे। वहीं संगम नगरी में सोमवार को आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने जिला मुख्यालय पर पहुंचकर अफसरों का घेराव किया। अपनी सात सूत्रीय मांगों के समर्थन में धरना प्रदर्शन किया और योगी-मोदी, हाय-हाय के नारे भी लगाए। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने जिला प्रशासन के माध्यम से प्रदेश के मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा। बड़ी संख्या में पहुंची आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने कहा कि अब वह 15 दिसंबर से लखनऊ में कूच करेंगी और अपने हक के लिए आवाज उठाएंगे।

सरकार नहीं पूरा कर सकी घोषणा पत्र का वायदा

धरना प्रदर्शन आंगनबाड़ी कर्मचारी व सहायिका एसोसिएशन प्रयागराज के बैनर तले किया गया। नेतृत्व कर रहे एसोसिएशन के मंडल सरंक्षक संतोष मिश्रा ने कहा कि प्रदेश की वर्तमान सरकार विगत चुनावी घोषणा पत्र में यह वायदा की थी कि उनकी सरकार बनने पर 120 दिन के भीतर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं व सहायिकाओं को सम्मानजनक मानदेय दिया जाएगा लेकिन सरकार बनने के साढ़े चार साल बीत गया लेकिन यह वायदा सरकार भूल गई। धरना प्रदर्शन में जिलाध्यक्ष सुशीला देवी, मंडल उपाध्यक्ष डॉ. पूनम सिंह, मौजीलाल रावत समेत अन्य शामिल रहे।

इन मांगों के समर्थन में चल रहा आंदोलन

  • आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, मिनी कार्यकर्ताओं व सहायिकाओं की सेवा नियमावली बनाई जाए।
  • राज्य कर्मचारी का दर्जा दिया जाए और जब तक यह संभव नहीं है तब तक आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को 18000 रुपये प्रतिमाह दिया जाए।
  • 10 वर्ष का कार्यकाल पूर्ण होने के उपरांत आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को योग्यता के आधार पर मुख्य सेविका के पद पर पदोन्नति दी जाए।
  • अन्य राज्यों की भांति पेंशन व ग्रेच्युटी देकर सेवानिवृत्त किया जाए।
  • मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को सामान्य आंगनबाड़ी के बराबर मानदेय दिया जाए।
  • रिक्त पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू की जाए।
खबरें और भी हैं...