मकर संक्रांति पर गंगा घाटों पर उमड़ी आस्था:रायबरेली के डलमऊ में घाटों पर स्नान कर किया दान, पढ़ें कब तक है शुभ मुहूर्त

डलमऊ4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

रायबरेली जिले के डलमऊ इलाके में मकर संक्रांति पर गंगा घाटों और सरोवरों पर आस्था उमड़ती हुई दिखाई दी। सुबह से ही लोग घाटों पर पहुंचने शुरू हो गए थे। लोगों की आस्था के आगे कड़ाके की ठंड भी बेअसर साबित हो रही थी।

ये है महत्व
धनु राशि से​ भगवान भास्कर मकर राशि में आज के दिन प्रवेश करते हैं। सूर्य के राशि बदलने के समय को मकर संक्रांति कहा जाता है। मकर संक्रांति के दिन गंगा व पवित्र सरोवर में लोग स्नान करते हैं और भगवान सूर्य देव की पूजा करते हैं। इसके बाद दान देने का विधान धार्मिक ग्रंथों में बताया गया है। पूजा के बाद तिल के लडडू, मूंगफली, लाई, रेवड़ी, खिचड़ी और दही-चूड़ा खाने व दान करने की परंपरा है।

स्नान के लिए उमड़े भक्त

मकर संक्रांति के अवसर पर डलमऊ के सभी गंगा घाटों पर सुबह से श्रद्धालु गंगा स्नान करने के लिए पहुंच रहे हैं , गंगा स्नान के बाद तट पर स्थित देवी देवताओं के मंदिरों में पूजन अर्चन कर अपने तीर्थ पुरोहितों को यथाशक्ति दान देकर श्रद्धालुओं ने अपने व कुटुंब की आरोग्य की कामना की।

ये है शुभ मुहूर्त
इस खास दिन पर छह घंटे पहले से लेकर छह घंटे बाद तक पुण्य काल माना जाता है। सूर्यदेव की पूजा 8 बजकर 43 मिनट पर आरंभ हो चुकी है। इसके अलावा दोपहर एक बजकर 36 मिनट तक शुक्ल योग है। इसके बाद ब्रह्म योग की शुरुआत हो जाएगी। वहीं दूसरी ओर शुभ मुहूर्त 12 बजकर 9 मिनट से शुरू होकर दोपहर 12 बजकर 51 मिनट तक है।

खबरें और भी हैं...