मकर संक्रांति आज:डलमऊ के गंगाघाटों पर ठंड के कारण श्रद्धालुओं की संख्या में गिरावट, आज दोपहर 12 बजे तक शुभ मुहूर्त

डलमऊ, रायबरेली3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डलमऊ के गंगाघाटों पर आ रहे स्नानार्थी। - Dainik Bhaskar
डलमऊ के गंगाघाटों पर आ रहे स्नानार्थी।

डलमऊ के सभी गंगा घाटों पर कड़ाके की ठंड के कारण लोग काफी कम संख्या में स्नान करने के लिए पहुंच रहे हैं। सनातन धर्म पीठ बड़ा मठ के महामंडलेश्वर स्वामी देवेंद्रानंद गिरि ने बताया कि संक्रांति काल में गंगा सहित अन्य नदियों में स्नान करने और गरीबों व जरूरतमंद लोगों को अन्न, वस्त्र, द्रव्य का दान देने से मनुष्य को कई गुना फल प्राप्त होते हैं। इस दिन तिल, गुड़ का दान विशेष माना जाता है। पुण्य काल में स्नान-दान करने से मनुष्य कई जन्मों तक निरोगी काया का स्वामी रहता है।

इन घाटों पर हुआ स्नान

डलमऊ के बड़ा मठ घाट, राजघाट, छोटा मठ घाट ,नेवाज सिंह घाट, शुक्ल घाट ,महावीरन घाट, दीन शाह गौरा घाट ,पथवारी देवी घाट, रानी शिवाला घाट, पक्का घाट ,संकट मोचन घाट ,गऊघाट, वीआईपी घाट ,बरुद्दा घाट आदि घाटों पर भक्तों ने ब्रह्ममुहूर्त से स्नान करना प्रारंभ किया।

कई वर्षों बाद बना यह योग

पं सुधा कर शास्त्री ने बताया कि इस वर्ष मकर संक्रांति वृषभ राशि में घटित होने से सुखदायक रहेगी। धार्मिक ग्रंथों में यदि संक्रांति बैठे अवस्था में प्रवेश करती है तो धन-धान्य की वृद्धि व आरोग्यता की प्राप्ति का संकेत देती है। 15 जनवरी को संक्रांति का प्रवेश रात में हो रहा है , इस नाते उत्तम माहौल बनेगा, शनिवार दिन स्थाई माना गया है, इस लिए वर्ष मकर संक्रांति सुख देने वाली होगी।

यह है पुण्य काल

बड़ा मठ के स्वामी दिव्यानंद गिरि ने बताया कि संक्रांति का पुण्यकाल आज दोपहर 12:49 तक रहेगा। इस काल में स्नान दान करना विशेष फल देने वाला रहेगा।

खबरें और भी हैं...