अधिकांश पुराने चेहरे पर ही दांव लगा रहीं पार्टियां:रायबरेली के लालगंज में कई नए दावेदार भी हैं चुनाव मैदान में

लालगंज, रायबरेली3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

आदर्श आचार संहिता लागू होते ही रायबरेली के लालगंज में भी चुनाव प्रचार थम गया है। सरेनी विधानसभा क्षेत्र के सभी पार्टियों के दावेदार या तो लखनऊ में डेरा डाले हैं या टिकट के जुगाड़ के लिए राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली पहुंच गए हैं। हालांकि जहां कांग्रेस से पूर्व विधायक अशोक सिंह, पूर्व प्रधान संघ अध्यक्ष रविंद्र सिंह, रत्ना पांडे, संजीव पांडे टिकट की लाइन में लगे हैं, वहीं भाजपा के टिकट के लिए मनोज द्विवेदी भाजपा दफ्तरों के चक्कर काट रहे हैं। वहीं उनकी पत्नी सुधा द्विवेदी जनसंपर्क में जुटी हैं, इसके अलावा सपा के पूर्व विधायक राजा अजय टिकट के लिए जहां लखनऊ में जुगाड़ लगा रहे हैं, वहीं राजनीतिक विरासत को संभालने के लिए उनके पुत्र दिव्याबर सिंह उर्फ बाबा राजा क्षेत्र में जमे हुए हैं। इसके अलावा भाजपा से वर्तमान विधायक धीरेंद्र बहादुर सिंह, भाजपा नेता दीप प्रकाश शुक्ला ,पूर्व मंत्री के सुपुत्र अनूप पांडे ,अजय त्रिपाठी, मीना पांडे भी टिकट के दावेदारों में शुमार किए जाते हैं सपा से जहां राजा अजय अपने पुत्र को टिकट दिलाने की दावेदारी में लगे हैं वहीं ब्राह्मण चेहरा के रूप में पूर्व मंत्री की पुत्रवधू वाला पांडे ,राम किशोर त्रिवेदी ,अमितेंद्र सिंह भी सपा से टिकट मांग रहे हैं। बसपा से एकमात्र प्रत्याशी ठाकुर प्रसाद यादव मैदान में उतर चुके हैं, अब देखना यह है कि आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी, की कर्म भूमि सरेनी विधानसभा से चारों पार्टियां किन चेहरों के साथ मैदान में उतरेंगे। वास्तव में पिछले चुनाव में बसपा को छोड़कर अन्य पार्टियों ने पुराने चेहरों पर ही दांव लगाया था। इस बार सियासी दल जहां जातीय समीकरणों का जोड़ घटाना करने में जुटे हैं । वहीं उन्हें ऐसे चेहरों की तलाश है जिसमें जीतने का दम हो। जनता को भी अब उम्मीदवार का इंतजार है । इसके चलते प्रत्याशी इस समय चुनावी संपर्क छोड़ टिकट की जुगत में लगे हुए हैं। 20 जनवरी तक उम्मीदवारों का चयन होने के कयास लगाए जा रहे हैं।