रायबरेली की पूर्व विधायक भाजपा में शामिल:सपा से टिकट न मिलने पर आशा किशोर ने बदली पार्टी, कहा- सपा के लिए लड़ाई लड़ी, उसका रिजल्ट शून्य मिला

रायबरेली10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रायबरेली में सपा से टिकट न मिलने से नाराज पूर्व सपा विधायक आशा किशोर बीजेपी में शामिल हो गईं हैं। - Dainik Bhaskar
रायबरेली में सपा से टिकट न मिलने से नाराज पूर्व सपा विधायक आशा किशोर बीजेपी में शामिल हो गईं हैं।

रायबरेली में सपा से टिकट न मिलने से नाराज पूर्व सपा विधायक आशा किशोर बीजेपी में शामिल हो गईं हैं। जॉइनिंग कमेटी के अध्यक्ष लक्ष्मी कांत बाजपेई की मौजूदगी में उन्होंने भाजपा की सदस्यता ली। अब तक रायबरेली से सपा के दो पूर्व विधायक बीजेपी में शामिल हाे चुके हैं।

दरअसल, आशा किशोर 2012 में सलोन विधानसभा से विधायक चुनकर विधानसभा पहुंची थीं। 2017 में यूपी मे सपा कांग्रेस में गठबंधन हुआ था। गठबंधन में सलोन सीट से कांग्रेस ने अपना प्रत्याशी उतारा था। इस बार फिर पूर्व विधायक आशा किशोर सपा से टिकट की लाइन में थीं, लेकिन समाजवादी पार्टी के मुखिया ने इन्हें पार्टी से टिकट नहीं दिया।

टिकट न मिलने से नाराज पूर्व विधायक मंगलवार शाम बीजेपी के प्रदेश कार्यालय पहुंची। यहां जॉइनिंग कमेटी के अध्यक्ष लक्ष्मी कांत बाजपेई की मौजूदगी में सदस्यता ली। साथ ही सैकड़ों कार्यकर्ताओं को भी बीजेपी की सदस्यता दिलाई।

भगवा लहराने का किया वादा

मीडिया से बातचीत के दौरान आशा किशोर ने कहा कि जितनी ताकत और मन लगन से मैंने समाजवादी पार्टी में काम किया। सपा के लिए तन-मन-धन से लड़ाई लड़ी, उसका रिजल्ट मुझे शून्य मिला। इसलिए मैंने समाजवादी पार्टी छोड़ दी और बीजेपी में शामिल हो गईं हूं। पूर्व विधायिका ने बताया कि भगवा लहराने की जिम्मेदारी मिली है। रायबरेली की 6 विधानसभा में 6 विधानसभा बीजेपी जीतकर विधानसभा पहुंचेगी। उत्तर प्रदेश में पूर्ण बहुमत से बीजेपी की सरकार फिर से बनने जा रही है।

खबरें और भी हैं...