रायबरेली में सड़कों पर गड्ढे दिखा रहे विकास की तस्वीर:फुटपाथ के नाम पर कागजों पर लाखों खर्च, पेड़ के चबूतरे तक बना डाले; हकीकत में कुछ नहीं

रायबरेलीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रायबरेली में सड़कों पर गड्ढे दिखा रहे विकास की तस्वीर। - Dainik Bhaskar
रायबरेली में सड़कों पर गड्ढे दिखा रहे विकास की तस्वीर।

किसी शहर की सड़कें ही विकास की कहानी सुनाती हैं, लेकिन रायरबरेली शहर की जर्जर सड़कें और गड्ढे दुर्घटनाओं की कहानी सुनाते हैं। रेलवे स्टेशन से लेकर शहर के दूसरे छोर तक सड़कों पर सुरक्षित आवागमन बेहद खतरनाक होता जा रहा है। सड़क मरम्मत के नाम पर केवल पैबंद लगाए गए हैं और उखड़े फुटपाथ इस बात की गवाही दे रहे हैं कि विकास के मामले में इस शहर के साथ सौतेला व्यवहार हो रहा है।

शहर की जर्जर सड़कों पर गौर करें तो यहां शहर के घंटाघर से कैपरगंज, घंटाघर से सुपर मार्केट, घंटाघर से रेलवे स्टेशन तक की सड़कें काफी जर्जर हैं। इतना ही नहीं शहर के दूसरे हिस्सों में बनी सड़कों की स्थिति देखें तो उनकी भी तस्वीर कहीं से अच्छी नहीं दिखााई पड़ती है। शहर की सड़कों का जायजा लिया गया तो पुरानी रायबरेली इलाके की सड़कें जर्जर दिखाई पड़ीं। इस क्षेत्र के ऑटो चालक मोहम्मद शानू ने कहा कि इन जर्जर सड़कों में बने गड्ढे में उसकी ऑटो पलटने से एक महिला यात्री को गंभीर चोटें आ गई थीं।

इन इलाकों में नहीं आते जनप्रतिनिध

इनका कहना है कि अगर सही सड़क रहे तो ऑटो व ई-रिक्शा पर सवारी करना अधिक सुविधाजनक हो सकता है। शानू के एक परिचित बताते हैं कि पुरानी रायबरेली, किलाबाजार, तिलियाकोट, सैयद राजन खतराना, नदी तीर, बड़ा कुआं, रायपुर, रेती राम का तालाब जैसे कई ऐसे इलाके हैं, जहां नगर पालिका में निर्वाचित जनप्रतिनिधि और अधिकारी दौरा करने से परहेज करते हैं। इन क्षेत्रों में अगर इन अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों के दौरे हों तो शायद जगह-जगह गड्ढों से स्थानीय निवासियों को निजात मिल सके।

हादसों को दावत दे रहे सड़कों के गड्ढे।
हादसों को दावत दे रहे सड़कों के गड्ढे।

इस क्षेत्र की सड़कें अधिक खराब

शहर को बाहरी इलाकों से जोडने वाली सड़कों की स्थिति भी संतोषजनक नहीं है। किलाबाजार से चंपादेवी मंदिर होते हुए त्रिपुला चौराहे तक, रतापुर चौराहे से लेकर बस स्टैंड तक साथ ही जिस पुल का उद्घाटन देश के प्रधानमंत्री ने किया था, उसकी भी तस्वीरें बेहद खतरनाक हैं। वहीं राह काफी मुश्किल है, जबकि लखनऊ से आने वाली उत्तर प्रदेश परिवहन की बसें रायबरेली बस स्टैंड तक इसी रास्ते से पहुंचती हैं। गायत्री मंदिर के सामने की सड़क जर्जर है, लेकिन विभाग से कई जगह पैबंद लगाकर राहत देने की कोशिश की है पर इससे सड़क और जर्जर हो गई है। यहां पास में दुकान लगाने वाले शख्स का कहना है कि इस शहर का नाम केवल कागजों में चमक रहा है और जमीनी हकीकत में धूल के गुबार हैं।

फुटपाथ पर लाखों खर्च, पेड़ के चबूतरे तक बना डाले

शहर के एक बड़े व्यवसायी ने कहा कि डिग्री कॉलेज-सुपर मार्केट रोड़ पर एक करोड़ से अधिक राशि व्यय करके इंटर लॉकिंग और पेड़ों के चबूतरे बनवाने का काम किया गया, जबकि जरूरत थी सड़कों के मरम्मत व चौड़ीकरण की। लेकिन अधिकारियों ने अपने मन मुताबिक कथित रूप से शहर के विकास को पंख लगा दिए। इनका कहना है कि शहर की जर्जर सड़कों की मरम्मत के लिए कोई प्लान नहीं है, अगर कोई रसूख वाला जनप्रतिनिधि है तो उसके क्षेत्र की कॉलोनियों की सड़कों की मरम्मत हो जाएगी, भले उसकी जरूरत न हो।

प्राथमिकताएं तय नहीं

रायबरेली शहर में मूलभूत सुविधाओं का और बेहतर ढंग से विकसित करने की व्यवस्था बहुत धीमी है। यही कारण है कि जर्जर सड़कों की मरम्मत करने के प्रस्ताव फाइलों में कैद हैं। शहर की जनता को आवागमन में बहुत ही परेशानी हो रही है, लेकिन उनकी आवाज प्रशासन तक नहीं पहुंच रही है। जनप्रतिनिधियों को लगता है कि शहर में विकास के काम तेजी से हो रहे हैं, लेकिन सड़कों की हालत बहुत कुछ बयां कर रही है।

खबरें और भी हैं...