बिलासपुर में आवास पाने को दर-दर भटक रही बुजुर्ग:कहा- पात्र सूची में नाम जोड़ने के लिए मांगा सुविधा शुल्क, एसडीएम से न्याय की गुहार

बिलासपुर, रामपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रधानमंत्री आवासीय योजना के तहत जहां सरकार गरीब और असहायों को सिर छुपाने के लिए आवास दे रही है। वहीं कुछ ऐसे भी पात्र हैं, जो योजना का लाभ न मिलने का आरोप लगा रहे हैं। उनका कहना है कि अधिकारी रसूखदार लोगों के रिश्तेदारों को लाभ पहुंचा रहे हैं।

मजदूरी कर टूटे कच्चे मकान में जिंदगी कर रहीं बसर

बिलासपुर नगर के मोहल्ला टांडा हुरमतनगर की रहने वाली छोटी वाल्मीकि शनिवार को पुत्र के साथ तहसील पहुंचीं। जहां एसडीएम मयंक गोस्वामी से को प्रार्थना पत्र सौंप। बताया कि वह मेहनत मजदूरी कर परिवार का पालन पोषण करती हैं। टूटे कच्चे मकान में जिंदगी बसर कर रही हैं। उनका कहना है कि दो वर्ष पहले परिवार की परेशानियों को देखते हुए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आवेदन किया था। जिसका सर्वे भी हो चुका है। मगर आवास अभी तक नहीं मिला।

एसडीएम ने तहसीलदार को दिए जांच के आदेश

आरोप है कि कर्मचारी आवास की सूची में नाम जोड़ने के लिए सुविधा शुल्क की मांग कर रहे हैं। वृद्धा बार-बार दफ्तरों के चक्कर लगा रही। कई बार संबंधित अधिकारियों से शिकायत भी कर चुकी है, लेकिन संतोषजनक जवाब नहीं मिला। एसडीएम मयंक गोस्वामी ने बताया तहसीलदार सुनील कुमार को जांचकर कार्रवाई के लिए निर्देशित किया है। पात्र होने पर महिला को आवास दिलाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...