रामपुर के युवक समेत 4 गिरफ्तार:पंजाब आतंकी विस्फोटों के मुख्य साजिशकर्ता को दे रहे थे शरण, उत्तराखंड एसटीएफ ने किया खुलासा

रामपुर7 महीने पहले
उत्तराखंड पुलिस ने रामपुर के युवक समेत चार लोगों को पकड़ा।

पंजाब के नवांशहर, पठानकोट और लुधियाना में हुए आतंकी विस्फोट की घटनाओं के साजिशकर्ता को शरण देने के आरोप में उत्तराखंड एसटीएफ ने रामपुर के एक युवक समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है। एसटीएफ ने जिला ऊधम सिंह नगर के थाना पंतनगर क्षेत्र से चारों को गिरफ्तार किया है।

मुख्य साजिशकर्ता के मिले थे इनपुट
आपको बता दें कि बीते वर्ष नवंबर 2021 में पंजाब के पठानकोट व नवांशहर व लुधियाना में बम ब्लास्ट की घटनाएं हुई थीं। इसमें पंजाब पुलिस ने छह लोगों की गिरफ्तारी की थी। वहीं, उत्तराखंड एसटीएफ को इनपुट मिले थे कि इन घटनाओं का एक आरोपी साजिशकर्ता सुखप्रीत उर्फ सुख उत्तराखंड में कहीं छिपा है। उसकी गिरफ्तारी के लिए एसटीएफ जुटी थी।

रामपुर के गुरपाल गुर्री के ढाबे पर छिपता था मुख्य साजिशकर्ता
एसटीएफ ने जिला ऊधम सिंह के थाना केलाखोड़ा के गांव रामनगर निवासी शमशेर सिंह उर्फ शेरा उर्फ साबी और उसके भाई हरप्रीत सिंह उर्फ हैप्पी को गिरफ्तार किया है। वहीं, थाना बाजपुर के गांव बैतखेड़ी निवासी अजमेर सिंह उर्फ लाडी को भी दबोचा है। इसके अलावा गुरपाल सिंह उर्फ गुर्री ढिल्लो निवासी गोलू टांडा, आर्सल पार्सल, थाना स्वार जिला रामपुर वर्तमान निवासी संधू ढाबा बाजपुर को गिरफ्तार किया है। दरअसल, गुरपाल सिंह का जिला उधमसिंह नगर के बाजपुर में संधू ढाबा है। पुलिस के मुताबिक मुख्य साजिशकर्ता सुखप्रीत उर्फ सुख इसी ढाबे में आकर छिपता था।

व्हाट्सएप कॉल और इंटरनेट से करते थे बातचीत
उधमसिंह नगर एसएसपी बरिंदरजीत सिंह ने बताया कि पकड़े गए चारों लोगों में से शमशेर उर्फ शेरा के कब्जे से एक पिस्टल 32 बोर व फोर्ड फिगो कार बरामद की गई है। इन्होंने ही पंजाब में आतंकी बम ब्लास्ट के मुख्य आरोपी सुखप्रीत उर्फ सुख को अपने घर में शरण दी थी। इसके साथ ही उसे लाने ले जाने में उपरोक्त कार का प्रयोग कर रहे थे। पकड़े गए चारों आरोपी कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, सरबिया से इंटरनेट और व्हाट्सऐप कॉल से जुडे़ थे।

उधमसिंह नगर एसएसपी बरिंदरजीत सिंह ने प्रेस वार्ता में दी जानकारी।
उधमसिंह नगर एसएसपी बरिंदरजीत सिंह ने प्रेस वार्ता में दी जानकारी।

थाना पंतनगर में दर्ज कराया गया केस
फरार आंतकी सुखप्रीत उर्फ सुख के भी इंटरनेशनल कॉल्स के जरिए सम्पर्क में होने की पुष्टि हुई है। पकड़े गये चारों आरोपियों के खिलाफ आतंकी सुखप्रीत उर्फ सुखी को अपने घर में शरण देना और मदद करना तथा साजिश के तहत सुरक्षित ठिकाने पर भेजने की व्यवस्था कराने के संबंध में धारा 19 अनलॉफुल एक्टिविटीज (प्रिवेंशन) एक्ट 1967 व धारा 25 आर्म्स एक्ट के थाना पंतनगर जिला ऊधम सिंह नगर में मामला दर्ज कराया गया है।

खालिस्तान टाइगर्स फोर्स के मेंबर कर रहे थे ऑपरेट
फरार आतंकी सुखप्रीत उर्फ सुख और गिरफ्तार चारों आरोपी कनाडा निवासी अर्श से इंटरनेट और व्हाट्सऐप कॉल के जरिए संपर्क में थे। अर्श खालिस्तान टाइगर फोर्स (KTF) से जुड़ा है। इन लोगों को अर्श के द्वारा ही संचालित किए जाने की पुष्टि हुई है। अभियुक्तों से प्राप्त इनपुट को राष्ट्रीय एजेंसियों को शेयर किया गया है।

मुख्य साजिश कर्ता अभी भी फरार
पंजाब के विभिन्न शहरों में आतंकी विस्फोट को अंजाम देने वाला सूत्रधार सुखप्रीत उर्फ सुख अभी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर है। उत्तराखंड एसटीएफ टीम का नेतृत्व डॉ. पूर्णिमा गर्ग (पुलिस उपाधीक्षक एसटीएफ) ने किया। उनके साथ इस टीम में निरीक्षक एमपी सिंह, निरीक्षक ललित मोहन जोशी, उपनिरीक्षक दिनेश पन्त, उपनिरीक्षक विनोद चन्द्र जोशी, उपनिरीक्षक केजी मठपाल, उपनिरीक्षक बृजभूषण गुरूरानी आदि शामिल थे।

खबरें और भी हैं...