रामपुर में अपात्र लौटा रहे राशन कार्ड:करीब 100 लोगों ने वापस किए कार्ड, न करने पर की जाएगी वसूली

रामपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सस्ता गल्ला विक्रेता निसार - Dainik Bhaskar
सस्ता गल्ला विक्रेता निसार

रामपुर में PDS सिस्टम के तहत जिन राशन कार्ड धारकों ने अपात्र होते हुए भी राशन लिया है, उन राशन कार्ड धारकों से उसी दिन से जब से वह राशन ले रहे हैं, रिकवरी की जाएगी और यह वसूली बाजार भाव पर की जाएगी। जिला प्रशासन ने चेतावनी देते हुए ऐसे राशन कार्ड धारकों को फौरन अपना राशन कार्ड सरेंडर करने की शासन की मंशा जताई थी। इस मंशा के तहत चलाई गई मुहिम रंग ला रही है। रामपुर में करीब सौ अपात्रों ने अपने कार्ड प्रार्थना पत्र लगाकर वापिस कर दिए हैं।

शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में क्या है अपात्रता का आधार ?

शासनादेश के मुताबिक़ समस्त आयकर दाता, चार पहिया वाहन अथवा ट्रैक्टर हार्वेस्टर, एसी अथवा 05 के.वी. या उससे अधिक क्षमता का जनरेटर के स्वामी, शहरी क्षेत्र के ऐसे परिवार जिसके किसी भी सदस्य के पास अकेले या अन्य सदस्य के स्वामित्व में 100 वर्ग मीटर से अधिक का स्वअर्जित आवासीय प्लॉट या उस पर स्वनिर्मित मकान अथवा 100 वर्ग मीटर से अधिक कार्पेट एरिया का आवासीय फ्लैट हैं, अपात्र होंगे। जिलाधिकारी रविन्द्र कुमार मॉदड़ ने बताया कि ऐसे परिवार जिसके किसी सदस्य के स्वामित्व में अकेले या अन्य सदस्य के साथ 80 वर्ग मीटर या उससे अधिक कार्पेट एरिया का व्यवसायिक स्थान हो, ग्रामीण क्षेत्र के ऐसे परिवार जिनके किसी सदस्य के पास अकेले या अन्य सदस्य के स्वामित्व में 05 एकड़ से अधिक सिंचित भूमि हो, समस्त सदस्यों की आय 02 लाख प्रतिवर्ष से अधिक हो एवं शहरी क्षेत्र के ऐसे परिवार जिनके समस्त सदस्यों की आय 03 लाख प्रतिवर्ष से अधिक हो, ऐसे परिवार जिनके सदस्यों के पास एक से अधिक शस्त्र लाईसेंस हो अपात्रता की श्रेणी में आते हैं।

रेड कार्ड के लिए कौन से परिवार हैं पात्र

अन्त्योदय (लाल कार्ड) अन्न योजना के लिए वह परिवार पात्र हैं, जिनका विवरण ग्रामीण क्षेत्र में अपनी जमीन न हो, ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्र के शहर में अपना पक्का मकान न हो, ग्रामीण क्षेत्र में कोई निश्चित व्यवसाय न हो, ग्रामीण क्षेत्र में भैस, बैल, ट्रैक्टर ट्रॉली न हो, ग्रामीण क्षेत्र में मुर्गी पालन, गौ पालन आदि न हो, ग्रामीण क्षेत्र में शासन द्वारा कोई वित्तीय सहायता का व्यवसाय न हो और सहायता न प्राप्त हो रही हो, ग्रामीण क्षेत्र में विद्युत कनैक्शन न हो, नगरीय क्षेत्र में फ्रिज, टेलीविजन, स्कूटर, मोटर साइकिल, कूलर आदि न हो, नगरीय क्षेत्र में विद्युत कनैक्शन, टेलीफोन न हो, नगरीय क्षेत्र में कुशल बढ़ई, कारीगर, राज मिस्त्री, स्कूटर मकैनिक इत्यादि न हो, नगरीय क्षेत्र में कोई निश्चित रोजगार न हो।

70 लोगों ने प्रार्थना पत्र देकर नाम काटने का किया आग्रह

रविंद्र कुमार मांदड़ ने कहा कि राशनकार्डों की पात्रता के सत्यापन का कार्य चल रहा है, यदि सत्यापन के समय जांच में पाया गया कि अपात्र परिवार खाद्यान्न प्राप्त कर रहा है, तो ऐसे व्यक्तियों के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही की जाएगी तथा जिस दिन से वे खाद्यान्न प्राप्त कर रहे हैं, का आंकलन करते हुए खाद्यान्न की वसूली बाजार मूल्य की दर से की जाएगी। जिला पूर्ति अधिकारी अभिषेक कुरील ने बताया कि शासन की मंशा के अनुरूप जो लोग अपात्र हैं, वह अपने राशन कार्ड सरेंडर कर रहे हैं। जिले में शुरुआत में ही 70 ऐसे लोगों ने राशन कार्ड प्रार्थना पत्र लगाकर वापस किए हैं। 70 लोगों ने राशन कार्ड वापस कर उनके नाम निरस्त करने का अनुरोध किया है।

खबरें और भी हैं...