रामपुर में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन आज:आपसी सुलह समझौते के आधार पर केसों का होगा निपटारा, 11 हजार केस किए गए शामिल

रामपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

रामपुर में विभिन्न मामलों में फंसे लोगों के लिए एक सुनहरा अवसर है, जिसमें वादकारी आपसी सुलह मशविरे के आधार पर केस का निपटारा कर सकते हैं। जिले में आज राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें लोग अपने वाद शामिल कराकर उसका निपटारा करवा सकते हैं। इसके लिए उन्हें अलग से कोई रुपए नहीं देने पड़ेंगे।

अब तक 11,244 वाद किए जा चुके शामिल
आज राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें निस्तारण के लिए विभिन्न प्रकार के लगभग 11,244 वाद नियत किए गए हैं। प्रभारी जिला जज नीलू मोघा ने बताया, आज राष्ट्रीय लोक अदालत में निस्तारित होने वाले वादों में आपराधिक शमनीय वाद, धारा 138 पराक्रम्य लिखित अधिनियम, बैंक वसूली वाद, मोटर दुर्घटना प्रतिकर याचिकाएं, श्रम वाद, विद्युत एवं जल बिल विवाद (चोरी से सम्बन्धित विवादों सहित), पारिवारिक वाद, भूमि अधिग्रहण वाद, सर्विस में वेतन सम्बन्धित विवाद एवं सेवानिवृति लाभों से सम्बन्धित विवाद, राजस्व वाद (जिला न्यायालय एवं माननीय उच्च न्यायालय में लम्बित वाद) एवं अन्य सिविल वादों (किराया, सुखाधिकार, व्यवादेश, विशिष्टि अनुतोष वाद) का निस्तारण किया जाएगा।

पूर्णतया निशुल्क है प्रक्रिया
प्रभारी जिला जज नीलू मोघा ने लोक अदालत की विशेषताओं के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी देते हुए बताया, लोक अदालत में आपसी सुलह समझौते के आधार पर विवादों का निस्तारण कराया जाता है। इसके लिए पक्षकार व्यक्तिगत स्तर पर स्वयं पहल कर सकता है। लोक अदालत में वादों के निस्तारण के लिए किसी भी प्रकार का शुल्क नहीं देना पड़ता है। साथ ही लंबित मामलों के लोक अदालत में निस्तारण पर न्याय शुल्क की वापसी की भी व्यवस्था है।

लोक अदालत की प्रक्रिया होती है सरल और सुलभ
नीलू मोघा ने बताया, कानूनी जटिलताओं के स्थान पर लोक अदालत की प्रक्रिया सहज और आपसी समझौते पर आधारित है। लोक अदालत द्वारा पारित निर्णय के विरुद्ध किसी न्यायालय में कोई अपील नहीं होती है।

खबरें और भी हैं...