आज है विश्व दूरसंचार दिवस:एडिसन की असली आवाज सहेजे हुए हैं रामपुर के राशिद शम्सी, बचपन से है आवाज से जुड़ी चीजों के संकलन का शौक

रामपुर3 महीने पहले
रामपुर में मनाया जा रहा विश्व दूरसंचार दिवस - Dainik Bhaskar
रामपुर में मनाया जा रहा विश्व दूरसंचार दिवस

रामपुर में जिंदगी के पचास से ज्यादा बसंत देख चुके रामपुर के राशिद शम्सी बचपन से आवाज़ की दुनिया के शैदाई, चाहने वाले हैं। रामपुर के पंजाबियान मोहल्ले की तंग गली में रहने वाले राशिद शम्सी के घर की छत पर बने तीन बड़े कमरों में आवाज़ से जुड़ी चीजों का सरमाया, खज़ाना मौजूद है कि देखने वाला इंसान चीजों को निहारता ही रह जाता है। कभी राशिद शम्सी से सवाल करता है तो कभी इन चीजों को निहारता है। उनके पास बेशुमार चीजों का संकलन है, जिसमें दुनिया को रोशनी देने वाले नामचीन विज्ञानी थॉमस अल्वा एडिसन की असली आवाज़ भी मौजूद है। दुनियाभर के रेडियो ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन से उन्हें खत और उपहार मिलते रहते हैं।

राशिद शम्सी के पास एडिसन की असली आवाज का है रिकॉर्ड

मेरे जोश ए जुनूं का नतीजा जरूर निकलेगा। इसी स्याह समंदर से नूर निकलेगा।। जी हां, राशिद शम्सी के जोश और जुनून के चलते उनके पास एक बड़ा संकलन मौजूद हैं। उन्हें दूर दूर का सफर कर आवाज़ से जुड़ी चीजें इकट्ठा करने का शौक है। इसी शौक के चलते उनके पास नायाब चीजें मौजूद हैं। उनके पास अमेरिका के मशहूर वैज्ञानिक जिन्होंने बिजली का बल्ब और ग्रामोफोन बनाकर दुनिया को रोशन और संगीतमय आवाज़ से लबरेज कर दिया, उन्हीं थॉमस अल्वा एडिसन की ओरिजनल वॉइस राशिद शम्सी के पास मौजूद है। सबसे पहले बनाए गए ग्रामोफोन पर खास किस्म के गोल सिलेंडर पर चलने वाले फिल्मनुमा रिकॉर्ड में एडिसन की आवाज मौजूद है। इस रिकॉर्ड को एडिसन की कंपनी नैशनल फोनोग्राफ ने लेबोर्ट्री ऑरेंज एनजे यूएसए में बनाकर 1888 में पहली बार अपने नाम से पेटेंट कराया था। इस पर साफ अंकित है कि इसकी कॉपी या बेचना किसी भी प्रकार से वर्जित है।

रेडियो, रिकॉर्ड्स, ग्रामोफोन, कैसेट्स, एल्बम, टीवी आदि के दुर्लभ नमूने हैं मौजूद

राशिद शम्सी के पास 6 सौ से ज्यादा अलग अलग किस्म के रेडियो मौजूद हैं। जो अब कहीं देखने को नहीं मिलते। राशिद शम्सी के पास छोटे-छोटे ट्रांजिस्टर के साथ-साथ दो-दो फुट लम्बे चौड़े वॉल्व पर आधारित रेडियो भी हैं। उनके पास करीब 15 हजार ग्रामोफोन के रिकॉर्ड्स हैं, जिसमें उन लोगों की आवाज है जो आज इस दुनिया में नहीं हैं और उनकी आवाज कहीं सुनने को भी नहीं मिलती। दुर्लभ आवाज के बेशुमार रिकॉर्ड्स और कैसेट्स उनके पास मौजूद हैं। संगीत और फिल्मों से जुड़े एल्बम के कई संकलन उनके खजाने में हैं। राशिद शम्सी को दुनियाभर के डाक टिकट इकट्ठा करने का भी शौक है और उनके पास करीब 15 लाख डाक टिकट मौजूद है।

राशिद शम्सी के पास मौजूद हैं नायाब चीजें
राशिद शम्सी के पास मौजूद हैं नायाब चीजें

साइंस के नायाब नमूने बनाने का है शौक

राशिद शम्सी बचपन से साइंस से जुड़ी चीजों के बारे में जिज्ञासा रखते हैं और ऐसे ही कुछ नायाब नमूने भी बनाने की कोशिश करते रहते हैं, जिसके चलते उन्होंने रेडियो स्टेशन ब्रॉडकास्टिंग सिस्टम, टॉवर, रोबोट, अंतरिक्ष में गैलेक्सी, रोवर्स और एलियन से सिग्नल आने जाने जैसे कई मॉडल बनाए हैं। उनकी लैब में चलते फिरते इन मॉडल को देखकर बरबस ही एक ऐसी दुनिया सामने आ जाति है, जो दूरी के चलते आसानी से आंखों से नहीं देखी जा सकती।

संग्रालय में मौजूद हैं रिकॉर्डिंग्स
संग्रालय में मौजूद हैं रिकॉर्डिंग्स

एक सवाल की तलाश में बसाई आवाज की दुनिया

राशिद शम्सी ने बचपन में रेडियो में से आती आवाज को सुना, तो उन्हें जिज्ञासा पैदा हुई कि आखिर यह आवाज आ कहां से और कैसे आ रही है? बस इसी सवाल ने उनके शौक को परवान चढ़ा दिया। उनके चाचा ने बताया कि यह आवाज़ स्टेशन से आ रही है। मासूम राशिद को समझ आया कि रेलवे स्टेशन से आ रही होगी, तो वह रेलवे स्टेशन पहुंचकर कमरों में आवाज कहां से आ रही है, ढूंढने लगे। इस पर रेलवे स्टेशन पर किसी ने बताया कि आवाज रेडियो स्टेशन से आती है। बस इसी की तलाश में आवाज से जुड़ी चीजों का शौक पैदा हो गया और यह शौक आज 50 साल बाद भी पूरे परवान पर है।

एडिसन की तस्वीर दिखाते हुए
एडिसन की तस्वीर दिखाते हुए
खबरें और भी हैं...