तहसील कर्मचारी की पिटाई का वीडियो वायरल:आरोप है कि शराब के नशे में महिलाओं से छेड़खानी की; पुलिस के पहुंचने पर बैज नोचे

रामपुर5 महीने पहले

रामपुर में पक्षी विहार झील के पास एक तहसील कर्मचारी की पिटाई हुई। शनिवार रात को तहसील कर्मचारी पर कुछ महिलाओं से छेड़खानी करने का आरोप है। पहले महिलाओं ने उसकी पिटाई की। फिर पुलिस के पहुंचने पर तहसील कर्मचारी उनसे भी उलझ गया। आरोप है कि वर्दी फाड़ दी। बैज नोच लिए।

इसके बाद पुलिस वालों ने भी उसकी पिटाई कर दी। जिसका वीडियो भी वायरल हो रहा है। फिलहाल, ये मामला तहसील से जुड़ा होने के कारण लेखपाल संघ शनिवार सुबह सक्रिय हुआ। अब लेखपाल संघ इस मामले में सीओ सिटी समेत 9 लोगों पर हत्या के प्रयास का मुकदमा लिखाने की मांग कर रहा है।

बीती रात कस्तूरबा गांधी पक्षी विहार झील के गेट पर तहसील कर्मी वीआरसी पुष्पेंद्र कुमार अपने एक दोस्त के साथ मौजूद था। तहसील भी पास में ही है। इस दौरान, पुष्पेंद्र कुमार को करीब दर्जनभर पुलिसकर्मियों ने पीटा। पुलिस वालों का कहना है कि पुष्पेंद्र वहां कुछ महिलाओं से छेड़खानी कर रहा था। उन्हीं के बुलाने पर वो लोग पहुंचे थे। पुलिस ने इस मामले में अभी कोई लिखापढ़त नहीं की है। न ही, पुष्पेंद्र का मेडिकल कराया गया है।

यूपी लेखपाल संघ कर रहा पैरवी
यूपी लेखपाल संघ के जिला मंत्री विवेक सिंह राणा ने बताया कि नायब तहसीलदार के मौके पर पहुंचने के बावजूद भी पुलिस पुष्पेंद्र को पीटती रही। समाधान दिवस में लेखपाल संघ ने सीओ सिटी अनुज चौधरी, उप निरीक्षक लाईक अहमद समेत करीब 9 पुलिसकर्मियों पर जानलेवा हमला कर लहूलुहान कर देने का मुकदमा लिखाने की मांग की है।
लेखपाल संघ ने एक मेमोरेंडम एसडीएम सदर को देकर सीओ सिटी अनुज चौधरी द्वारा तहसील के उच्च अधिकारियों को भी अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया। मेमोरेंडम में दोषी पुलिसकर्मियों को निलंबित कर फौरन गिरफ्तार करने की मांग की है। ऐसा नहीं करने पर 17 मई को धरना देने की चेतावनी दी है। लेखपाल संघ का कहना है कि इससे पहले भी अनुज चौधरी तहसील कर्मियों के साथ अभद्र व्यवहार कर चुके हैं। साथ ही इस घटना को भी बढ़ा-चढ़ाकर छेड़छाड़ में दिखाना चाहते हैं।

पुष्पेंद्र के आरोप-झील के ठेकेदार के कहने पर पुलिस ने पीटा
वहीं, पुष्पेंद्र कुमार ने कहा कि किसी का झगड़ा हो गया था। मैं सूचना पर वहां गया था। पक्षी विहार के साइकिल स्टैंड का ठेकेदार समद खान ने उसके साथ मारपीट करना शुरू कर दिया। उसी के कहने पर पुलिस उपनिरीक्षक लाईक अहमद और सादे कपड़ों में मौजूद पुलिस वालों ने पिटाई की।
मैंने किसी महिला को नहीं छेड़ा। वहां मौजूद महिला ने भी उनके पक्ष में बयान दिए हैं कि मैंने छेड़खानी नहीं की। उन्होंने बताया कि कारागार पुलिस में तैनात अशोक चौधरी और एसआई लईक अहमद, झील का ठेकेदार समद खान समेत करीब 12 लोगों ने मेरे साथ जानलेवा मारपीट की। उनके खिलाफ तहरीर दी जा रही है।

सीओ सिटी बोले-शराब पीकर पुष्पेंद्र पुलिस से उलझा था
वहीं, सीओ सिटी अनुज चौधरी ने बताया कि दो पक्षों में लड़ाई हो रही थी। तहसीलकर्मी शराब पीकर झगड़ा करते हुए पुलिस से भी उलझ गया। वर्दी फाड़ दी। बैज नोच लिए। अभी किसी पक्ष की ओर से तहरीर नहीं आई है। अगर तहरीर आएगी तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी।