योगी की पुलिस जयंत चौधरी की फैन, VIDEO:रामपुर जेल के गेट पर पुलिसकर्मियों ने किया डांस, जयंत चौधरी जिंदाबाद के लगाए नारे

रामपुर5 महीने पहले

यूपी में चुनावी माहौल गरम है। चुनाव प्रचार के दौरान या नामांकन के दौरान आचार संहिता का उल्लंघन करने पर नेताओं पर केस दर्ज किए जा रहे हैं। चुनाव आयोग की गाइडलाइन के अनुसार पुलिस-प्रशासन काम कर रहा है, लेकिन पश्चिमी यूपी में योगी की पुलिस जयंत चौधरी की फैन हो गई है। रामपुर में गणतंत्र दिवस 26 जनवरी का एक वीडियो सामने आया है। जिसमें कुछ पुलिसकर्मी डांस करते, इंकलाब जिंदाबाद, वंदे मातरम और जयंत चौधरी जिंदाबाद के नारे लगाते नजर आ रहे हैं।

मुजफ्फरनगर का माना जा रहा था वीडियो

पहले तो यह वीडियो मुजफ्फरनगर का माना जा रहा था। पुलिस का कहना था, वीडियो में दिख रहे पुलिसकर्मी मुजफ्फरनगर के हैं। हालांकि बाद में वीडियो की पहचान रामपुर जिला जेल के सामने की हुई तो जेल प्रशासन सकते में आ गया। पुलिसकर्मियों द्वारा डांस करने के दौरान जयंत चौधरी जिंदाबाद के नारे लगाने को लेकर जेल प्रशासन कार्रवाई की बात कह रहा है।

गणतंत्र दिवस के दिन रामपुर जेल में समारोह का आयोजन किया गया था। जिसमें पुलिसकर्मियों द्वारा जयंत चौधरी जिंदाबाद के नारे लगाए गए।
गणतंत्र दिवस के दिन रामपुर जेल में समारोह का आयोजन किया गया था। जिसमें पुलिसकर्मियों द्वारा जयंत चौधरी जिंदाबाद के नारे लगाए गए।

सम्मानित होने की खुशी में नाचने लगे पुलिसकर्मी

पुलिस सूत्र बताते हैं, गणतंत्र दिवस के मौके पर जिला कारागार में समारोह का आयोजन किया गया था। इस दौरान इन पुलिसकर्मियों को सम्मानित किया गया था। सम्मानित होने की खुशी में पुलिसकर्मी जेल के गेट पर नाचने लगे। इस दौरान संदीप नाम का एक पुलिसकर्मी इंकलाब जिंदाबाद, वंदे मातरम और जयंत चौधरी जिंदाबाद के नारे लगाए, जिसमें वहां मौजूद सभी पुलिसकर्मी जिंदाबाद बोलते नजर आए।

जयंत चौधरी चुनाव में सपा के साथ गठबंधन से मैदान में हैं और पश्चिमी यूपी में पूरे दमखम के साथ चुनाव लड़ रहे हैं।
जयंत चौधरी चुनाव में सपा के साथ गठबंधन से मैदान में हैं और पश्चिमी यूपी में पूरे दमखम के साथ चुनाव लड़ रहे हैं।

एसपी के आदेश पर कारण बताओ नोटिस जारी

जेल अधीक्षक प्रशांत मौर्य ने बताया, पुलिस अधीक्षक अंकित मित्तल के आदेश पर 6 पुलिसकर्मियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। साथ ही पूरे मामले की रिपोर्ट आईजी कारागार लखनऊ को भेजी जाएगी। प्रथम दृष्टया मामला अनुशासनहीनता का दिख रहा है।

खबरें और भी हैं...